• जासूसी के नाम ममता का प्लान 2024 एक्टिवेट, फोन दिखाते हुए कहा- न शरद पवार से न चिदंबरम से कर पा रही बात

अभिनय आकाश Jul 21, 2021 19:11

शहीदी दिवस पर लोगों को संबोधित करते हुए ममता ने अपना मोबाइल भी उठा कर दिखाया। ममता ने कहा कि हमारे फोन ऐसे टैप किए जा रहे हैं जैसे कोई टेप रिकॉर्डर हो। पेगासस बहुत ज्यादा खतरनाक है। वो लोग भूल रहे हैं कि लोगों को शांति से जीने देना चाहिए। वो लोग लोगों को बहुत परेशान कर रहे हैं।

पेगासस जासूसी कांड पर सियासी बवाल जारी है। जासूसी का सबूत अब तक सामने नहीं आया है लेकिन सवाल उठाने वालों की फौज खड़ी हो गई है। फोन टैपिंग मामले पर ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि सरकार हमारे फोन टैप करवा रहे हैं। जासूसी के डर से किसी नेता से बात नहीं कर पा रही हूं। हर किसी को यही डर लगा हुआ है कि उसके फोन को न जाने कौन सुन रहा होगा। ममता बनर्जी ने कहा कि अब ऐसे लोगों से निजात पानी है तो 2024 की तैयारियां आज ही शुरू करनी पड़ेगी। 

नहीं कर पा रही किसी से बात 

कोलकाता में शहीदी दिवस पर लोगों को संबोधित करते हुए ममता ने अपना मोबाइल भी उठा कर दिखाया। ममता ने कहा कि हमारे फोन ऐसे टैप किए जा रहे हैं जैसे कोई टेप रिकॉर्डर हो। पेगासस बहुत ज्यादा खतरनाक है। वो लोग भूल रहे हैं कि लोगों को शांति से जीने देना चाहिए। वो लोग लोगों को बहुत परेशान कर रहे हैं। ममता बनर्जी ने कहा कि उनकी तानाशाही बढ़ती जा रही है। मैं न तो चिदंबरम जी से, शरद पवार जी से, दिल्ली के सीएम से फोन पर बात नहीं कर पा रही। शिवसेना चीफ, आंध्र प्रदेश के सीएम, ओडिशा के सीएम से बात कर सकती हूं क्योंकि मेरा फोन टैप हो रहा है। 

इसे भी पढ़ें: दिलीप घोष बोले- फोन टैपिंग हमारा नहीं, कांग्रेस का काम है, जहां से ममता आई हैं

सुप्रीम कोर्ट से किया ये अनुरोध

कोलकाता में एक रैली को ऑनलाइन संबोधित करते ममता बनर्जी ने सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया कि वह पेगासस स्पाईवेयर का इस्तेमाल करके नेताओं, कार्यकर्ताओं, पत्रकारों आदि को निशाना बनाने वाले कथित जासूसी स्कैंडल का संज्ञान ले। उन्होंने विपक्षी दलों से कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने के लिए सभी को साथ आना होगा।