पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी को लेकर पहली बार बोलीं ममता, दोषी साबित पाए जाते हैं तो दी जाए उम्र कैद की सजा

Mamata
creative common
अभिनय आकाश । Jul 25, 2022 6:13PM
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य के शिक्षक नौकरी घोटाले और पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी से खुद को दूर करते हुए कहा है कि अगर दोषी साबित हो जाते हैं, तो उन्हें आजीवन कारावास की कोई परवाह नहीं है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी को लेकर पहली बार प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि मैं भ्रष्टाचार या किसी गलत काम का वो समर्थन नहीं करती हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य के शिक्षक नौकरी घोटाले और पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी से खुद को दूर करते हुए कहा है कि अगर दोषी साबित हो जाते हैं, तो उन्हें आजीवन कारावास की कोई परवाह नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर यह साबित हो जाता है, तो मुझे आजीवन कारावास की सजा से भी कोई आपत्ति नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: एनिमल लवर हैं ममता के मंत्री, एक AC वाला बंगला कुत्तों के नाम कर रखा, ED की जांच में हो रहे चौंकाने वाले खुलासे

ममता की तरफ से ये बयान उनके कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी को पश्चिम बंगाल में कथित स्कूल नौकरी घोटाले की जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए जाने के दो दिन बाद आया है। पूर्व शिक्षा मंत्री की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के कोलकाता स्थित घर से 21 करोड़ रुपये नकद बरामद होने के बाद पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी हुई। ममता बनर्जी ने कहा कि उन्होंने भ्रष्टाचार का समर्थन नहीं किया और सभी लोग एक जैसे नहीं होते। इसके साथ ही ममता ने कहा कि मैं चाहती हूं कि सच्चाई समय पर सामने आए।

इसे भी पढ़ें: पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी बोले शत्रुघ्न सिन्हा, बिना किसी सबूत के किया जा रहा परेशान

बता दें कि पश्चिम बंगाल के वाणिज्य एवं उद्योग विभाग के मंत्री पार्थ चटर्जी को ईडी ने पश्चिम बंगाल में कथित स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) घोटाले की जांच के सिलसिले में 23 जुलाई की सुबह गिरफ्तार किया। पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद पूर्व शिक्षा मंत्री की करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के कोलकाता आवास से 21 करोड़ रुपये नकद और एक करोड़ रुपये से अधिक के आभूषण बरामद किए गए। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़