ममता ने पश्चिम बंगाल का बकाया धन नहीं दिये जाने का केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 14, 2019   18:09
ममता ने पश्चिम बंगाल का बकाया धन नहीं दिये जाने का केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

ममता बनर्जी उम्मीद जतायी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में राज्य की मदद करने का अपना वादा निभायेंगे।राज्य सचिवालय में गुरूवार को ममता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘केंद्र पर हमारा 17 हजार करोड़ रूपये का बकाया है। अगर वह हमें इस बकाया राशि का भुगतान कर देते तो हम इसका इस्तेमाल जारी राहत कार्यों में कर सकते थे।’’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल का बकाया धन नहीं दिये जाने का केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरूवार को कहा कि राज्य के बुलबुल चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में स्थानीय सरकार द्वारा किये जा रहे राहत कार्य में उन पैसों से मदद मिलेगी। ममता ने उम्मीद जतायी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में राज्य की मदद करने का अपना वादा निभायेंगे।राज्य सचिवालय में गुरूवार को ममता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘केंद्र पर हमारा 17 हजार करोड़ रूपये का बकाया है। अगर वह हमें इस बकाया राशि का भुगतान कर देते तो हम इसका इस्तेमाल जारी राहत कार्यों में कर सकते थे।’’

उन्होंने कहा कि बकाया राशि दिये जाने के संबंध में वह केंद्र सरकार को पत्र लिखेंगी।मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा कि वह राहत वितरण कार्यों में राजनीति करने से बचे।ममता ने कहा, ‘‘यह बड़ा चक्रवात था । प्रभावित लोगों के साथ खड़ा रहने की बजाए कुछ लोग राजनीति के बर्बर खेल में शामिल हैं। मैं उन लोगों से आग्रह करती हूं कि वह इससे बचें। यह राजनीति करने का समय नहीं है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में ‘गंदी राजनीति करने वाले’ लोगों अथवा भाजपा के मुखपत्रों को इसे छोड़ देना चाहिए।ममता ने इस बात पर भी जोर दिया कि केंद्र और राज्य सरकारों की विशिष्ट भूमिकाएँ हैं और उन्हें इस स्थिति में मिलकर काम करना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।