देश के बंटवारे को मनोहर लाल ने बताया दर्दनाक, बोले- आज भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश हो सकते हैं एक

manohar lal
ANI
अंकित सिंह । Jul 26, 2022 11:29AM
खट्टर ने साफ तौर पर कहा कि जब पूर्वी और पश्चिमी एकजुट हो सकते हैं तो भारत के साथ पाकिस्तान और बांग्लादेश का विरोध क्यों नहीं हो सकता है? उन्होंने कहा बर्लिन की दीवार को गिरा ईस्ट और वेस्ट जर्मनी एक हो गए थे तो ऐसे में भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश की कि क्यों नहीं हो सकते।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने देश के बंटवारे को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिस तरीके से पूर्वी जर्मनी और पश्चिमी जर्मनी का एकीकरण हुआ, ठीक वैसा ही बांग्लादेश और पाकिस्तान का भी भारत में विलय संभव है। खट्टर ने साफ तौर पर कहा कि जब पूर्वी और पश्चिमी एकजुट हो सकते हैं तो भारत के साथ पाकिस्तान और बांग्लादेश का विरोध क्यों नहीं हो सकता है? उन्होंने कहा बर्लिन की दीवार को गिरा ईस्ट और वेस्ट जर्मनी एक हो गए थे तो ऐसे में भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश की कि क्यों नहीं हो सकते। दरअसल, मनोहर लाल खट्टर गुरुग्राम में भाजपा के राष्ट्रीय अल्पसंख्यक मोर्चा के तीन दिवसीय कैंप को संबोधित कर रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बड़ी बैठक, पीएम मोदी और जेपी नड्डा भी है मौजूद

इस दौरान खट्टर ने कांग्रेस पर भी जबरदस्त तरीके से निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों को हमेशा वोट बैंक के ही तरह इस्तेमाल किया है। उन्होंने दावा किया कि स्वतंत्रता के बाद से कांग्रेस अल्पसंख्यकों का इस्तेमाल करती आई है। अपने बयान में हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी ने मुस्लिम समुदाय के दिलो-दिमाग में आरएसएस का भय बैठाया है। इसकी वजह से उनके अंदर असुरक्षा की भावना उत्पन्न हुई। इसी दौरान खट्टर ने यह भी कहा कि भारत अपने पड़ोसी देशों के साथ अच्छे रिश्ते रखना चाहता है। उन्होंने कहा कि जब पड़ोसी देशों के साथ हमारे रिश्ते अच्छे होंगे तो इससे कई चीजों पर असर भी पड़ेगा। 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा में डीएसपी को कुचलने के मामले में किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा : मुख्यमंत्री खट्टर

इससे पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से 13 से 15 अगस्त तक चलने वाले हर घर तिरंगा अभियान में उत्साहपूर्वक भाग लेने का आग्रह किया था। खट्टर ने इस अभियान के संबंध में प्रशासनिक सचिवों, उपायुक्तों और अन्य अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राज्य-स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की और उन्हें अंतिम छोर पर बैठे लोगों तक तिरंगे की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। खट्टर को उद्धृत करते हुए एक बयान में कहा गया था कि हर घर तिरंगा निश्चित रूप से एक अनूठा अभियान है, क्योंकि यह राष्ट्रीय ध्वज के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देने के साथ-साथ नागरिकों में देशभक्ति की भावना को जगाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने की परिकल्पना करता है।’’

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़