किसान नेताओं की हत्या की साजिश का दावा करने वाले नकाबपोश को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

किसान नेताओं की हत्या की साजिश का दावा करने वाले नकाबपोश को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

चार किसान नेताओं को गोली मारने की साजिश का दावा करने वाले नकाबपोश शख्स की तस्वीर समाचार एजेंसी एएनआई ने जारी की है। नकाबपोश शख्स का नाम योगेश सिंह बताया जा रहा है।

नयी दिल्ली। केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। बीते दिनों सिंघू बॉर्डर पर चार किसान नेताओं की हत्या की साजिश रचने वाले शख्स को किसानों ने पुलिस के हवाले कर दिया था। जिसको लेकर अब बड़ा खुलासा हुआ है। हालांकि, यह बात अभी कितनी सत्य है यह बता पाना अभी मुश्किल है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस के राजभवन घेराव पर पुलिस का लाठीचार्ज, बरसाए गए आंसू गैस के गोले 

चार किसान नेताओं को गोली मारने की साजिश का दावा करने वाले नकाबपोश शख्स की तस्वीर समाचार एजेंसी एएनआई ने जारी की है। नकाबपोश शख्स का नाम योगेश सिंह बताया जा रहा है। इसके साथ ही एक नए वीडियो के मुताबिक नकाबपोश शख्स ने किसानों द्वारा दी गई स्क्रिप्ट को पढ़ा था। हालांकि, इस बात में कितनी सच्चाई है यह बता पाना मुश्किल है। फिलहाल पुलिसकर्मी मामले की जांच में कर रहे हैं।

नकाबपोश योगेश अपने दावे से पल्टा

किसान नेताओं ने शुक्रवार को सिंघू बॉर्डर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक नकाबपोश व्यक्ति को पेश किया था। जिसने दावा किया था कि उसकी टीम के सदस्यों को ट्रैक्टर रैली (26 जनवरी को होने वाली) के दौरान कथित तौर पर पुलिसकर्मी बनकर भीड़ पर लाठीचार्ज करने को कहा गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नकाबपोश शख्स योगेश अब अपने दावे से पलट गया है और उसमें दबाव में आकर ऐसा करने की बात कही है।  

इसे भी पढ़ें: ट्रैक्टर रैली के दौरान चार लोगों की हत्या की साजिश ! किसान नेताओं ने एक व्यक्ति को किया पेश 

योगेश से पूछताछ कर रही पुलिस

वहीं, समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने बताया कि पुलिस उस शख्स से पूछताछ कर रही है और जांच पूरी होने तक कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। गणतंत्र दिवस के कार्यक्रमों के लिए सभी सामान्य सुरक्षा व्यवस्थाएं हैं। फिलहाल नकाबपोश योगेश हरियाणा पुलिस की गिरफ्त में है। जो सोनीपत जिले का रहने वाला है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।