मायावती ने केंद्र से कहा, आंदोलनरत किसानों से वार्ता कर समस्या का हल निकाले

मायावती ने केंद्र से कहा, आंदोलनरत किसानों से वार्ता कर समस्या का हल निकाले

बसपा प्रमुख मायावती ने अपने ट्वीट में कहा कि तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर देश के किसान कोरोना महामारी के इस अति-विपदा काल में भी लगातार आंदोलित हैं।

लखनऊ। केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। बुधवार यानी कि 26 मई को किसान आंदोलन के 6 महीने पूरे होने वाले है। किसान आंदोलन को लेकर विपक्ष केंद्र सरकार पर हमलावर है। इन सबके बीच बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने केंद्र सरकार से नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों से बातचीत करने को कहा है। मायावती ने कहा कि बातचीत के जरिए ही समस्या का हल निकल सकेगा।

बसपा प्रमुख मायावती ने अपने ट्वीट में कहा कि तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर देश के किसान कोरोना महामारी के इस अति-विपदा काल में भी लगातार आंदोलित हैं। आन्दोलन के 6 महीने पूरे होने पर कल 26 मई को उनके देशव्यापी ’विरोध दिवस’ को बसपा का समर्थन। केंद्र को भी इनके प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है। उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा देश के किसानों के प्रति केंद्र का रवैया अभी तक अधिकतर टकराव का ही रहने से उत्पन्न गतिरोध के कारण खासकर दिल्ली के पड़ोसी राज्यों आदि में स्थिति तनावपूर्ण है। आन्दोलित किसानों से वार्ता करने और इनकी समस्या का हल निकालने की केन्द्र सरकार से बसपा की पुनः अपील है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।