8-10 जुलाई तक सुलझेगा पंजाब का विवाद, सिद्धू को दिल्ली बुलाकर होगी बात

8-10 जुलाई तक सुलझेगा पंजाब का विवाद, सिद्धू को दिल्ली बुलाकर होगी बात

कांग्रेस नेता हरीश रावत ने राहुल गांधी के साथ मुलाकात के बाद जानकारी दी कि हमने नवजोत सिंह सिद्धू के मुद्दों का संज्ञान लिया है, बाकी मामला संगठन से संबंधित है।

नयी दिल्ली। पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी है। इसी बीच प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील जाखड़ और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने राहुल गांधी से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद सुनील जाखड़ ने बताया कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच में किसी भी तरह संघर्ष नहीं है। जबकि तीन सदस्यीय समिति में शामिल हरीश रावत ने कहा कि हमने नवजोत सिंह सिद्धू के मुद्दों का संज्ञान लिया है। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस में अंतर्कलह जारी, आगामी चुनाव में कौन होगा मुख्यमंत्री का चेहरा ? पार्टी सांसद ने दिया यह जवाब 

दरअसल पंजाब कांग्रेस की समस्याओं के समाधान के लिए आलाकमान ने तीन सदस्यीय समिति का गठन किया था। जिससे मंगलवार को अमरिंदर सिंह ने मुलाकात की और पंजाब की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया। फिलहाल कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इस मामले को सुलझाने में जुटे हुए हैं।

कांग्रेस नेता हरीश रावत ने राहुल गांधी के साथ मुलाकात के बाद जानकारी दी कि हमने नवजोत सिंह सिद्धू के मुद्दों का संज्ञान लिया है, बाकी मामला संगठन से संबंधित है। संगठनात्मक राजनीतिक सवालों के लिए समिति ने रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष को दे दी है। 8-10 जुलाई तक कांग्रेस अध्यक्ष का निर्णय आ जाएगा। इस बीच मीडियाकर्मियों ने हरीश रावत से नवजोत सिंह सिद्धू को दिल्ली बुलाए जाने से जुड़ा हुआ सवाल किया। जिस पर उन्होंने हां कहते हुए जवाब दिया।

इसे भी पढ़ें: सिद्धू से घमासान, बार-बार दिल्ली बुलाए जाने से परेशान, कैप्टन कर सकते हैं अलग पार्टी बनाने का ऐलान? 

वहीं, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने कहा कि मैं नहीं मानता कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच कोई संघर्ष है। यह चिंतन कई मुद्दों को लेकर चल रहा है। उन्होंने कहा कि पंजाब की अंतरआत्मा को जो सबसे बड़ा शूल की तरह चुभ रहा है वो मसला है गुरूग्रंथ साहब को चिथड़े-चिथड़े करके फाड़े जाने का और निहत्थे अनुआयियों पर गोली चलाकर उनका कत्ल किया जाना। उनके कातिल आज पंजाब में घूम रहे हैं। ये कांग्रेस को और पंजाब को विचलित कर रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।