महाराष्ट्र में विधायक बचाओ अभियान, होटलों के बाहर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2019   16:36
महाराष्ट्र में विधायक बचाओ अभियान, होटलों के बाहर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए सहमति बनने के तुरंत बाद महाराष्ट्र में यह नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रम हुआ।

मुंबई। राकांपा, कांग्रेस और शिवसेना के विधायकों को खरीद-फरोख्त के प्रयास से बचाने के लिए मुंबई के जिन तीन लक्जरी होटलों में ठहराया गया है, उसके बाहर सुरक्षा सख्त कर दी गई है। भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस द्वारा शनिवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद तीनों दलों ने अपने विधायकों के शहर के अलग-अलग होटलों में भेज दिया है। फडणवीस के साथ राकांपा नेता अजित पवार ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए सहमति बनने के तुरंत बाद महाराष्ट्र में यह नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रम हुआ। सूत्रों ने बताया कि राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करने से पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त रोकने के लिए कांग्रेस ने अपने विधायकों को जूहू इलाके के जे डब्ल्यू मैरियट होटल में रखा है, जबकि राकांपा ने अपने विधायकों को पवई में दि रिनेसा होटल में रखा गया है। इसके अलावा शिवसेना के विधायक यहां अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के नजदीकललित होटल में रुके हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: शरद पवार से मिले उद्धव ठाकरे, NCP विधायकों को किया संबोधित

पुलिस उपायुक्त (जोन आठ) मंजूनाथ सिंघे ने बताया कि सहार और पवई थाना क्षेत्र के जवानों के साथ ही रिजर्व पुलिस बल के जवानों को ललित होटल के बाहर तैनात किया गया है। उन्होंने बताया, “ललित और जे डब्ल्यू मैरियट के बाहर सुरक्षा बढ़ाई जा चुकी है। हम इन होटलों में जाने वाले लोगों और वाहनों की जांच कर रहे हैं।” सूत्रों ने बताया कि इन होटलों में निजी सुरक्षा गार्ड भी बिना समुचित जांच के किसी को अंदर नहीं जाने दे रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।