प्रोटोकॉल तोड़ने में मोदी ने इमरान से प्रतिस्पर्धा की, कूटनीतिक विफलता पर जवाब दें: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 20, 2019   17:18
प्रोटोकॉल तोड़ने में मोदी ने इमरान से प्रतिस्पर्धा की, कूटनीतिक विफलता पर जवाब दें: कांग्रेस

उन्होंने कहा, ‘‘सच्चाई यह है कि पुलवामा में हुए जघन्य आतंकी हमले के बाद सऊदी अरब के युवराज ने पाकिस्तान का दौरा किया और मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने तथा जैश-ए-मोहम्मद को आतंकी संगठन घोषित करने का समर्थन करने से इनकार किया।’

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने सऊदी अरब के युवराज (वली अहद) मोहम्मद बिन सलमान का प्रोटोकॉल से इतर जाकर स्वागत किए जाने को लेकर बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला और आरोप लगाया कि प्रोटोकॉल तोड़ने में मोदी तो मानो पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ, जैसे प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं। पार्टी ने आतंकी मसूद अजहर और जैश-ए-मोहम्मद पर प्रतिबंध के संदर्भ में सऊदी अरब का समर्थन नहीं मिलने को प्रधानमंत्री मोदी की ‘कूटनीतिक विफलता’ भी करार दिया और कहा कि इस पर प्रधानमंत्री को देश की जनता को जवाब देना चाहिए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री मोदी सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान की अगवानी करने और प्रोटोकॉल तोड़ने में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं जबकि इसकी कोई जरूरत और औचित्य नहीं है। सबसे ज्यादा खराब बात यह है कि साझा बयान में जैश-ए-मोहम्मद और मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने के संदंर्भ में कुछ नहीं कहा गया।’’

यह भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती पर भड़के गिरिराज, बोले- भारत का खाकर पाकिस्तान की ना गाएं

उन्होंने कहा, ‘‘सच्चाई यह है कि पुलवामा में हुए जघन्य आतंकी हमले के बाद सऊदी अरब के युवराज ने पाकिस्तान का दौरा किया और मसूद अजहर को प्रतिबंधित करने तथा जैश-ए-मोहम्मद को आतंकी संगठन घोषित करने का समर्थन करने से इनकार किया।’’ शर्मा ने आरोप लगाया कि यह स्पष्ट रूप से कूटनीतिक विफलता है जिसके लिए प्रधानमंत्री को देश को जवाब देना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।