रोजगार के दावों के बीच #modi_rojgar_दो अभियान, ट्विटर पर ट्रेंड करा रहे छात्र

  •  अनुराग गुप्ता
  •  फरवरी 23, 2021   12:32
  • Like
रोजगार के दावों के बीच #modi_rojgar_दो अभियान, ट्विटर पर ट्रेंड करा रहे छात्र

छात्र पहले भी प्रतियोगी परिक्षाओं को लेकर केंद्र के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभियान चला चुके हैं। जब कोरोना महामारी के समय में परीक्षाओं को स्थगित किया गया था उस वक्त उन्होंने 'मैं भी बेरोजगार हूं' अभियान चलाया था।

नयी दिल्ली। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर #modi_rojgar_दो हैशटैग पिछले दो दिनों से ट्रेंड हो रहा था लेकिन अचानक से सोमवार की रात को #modi_girlfriend_do और #modi_boyfriend_do हैशटैग ट्विटर पर ट्रेंड होने लगे। आपको बता दें कि 25 फरवरी को छात्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपनी कुछ मांगों को लेकर #modi_rojgar_do #modi_rojgar_दो हैशटैग चलाने वाले थे लेकिन यह ट्विटर और यूट्यूब पर यह पहले ही चल गया और दो दिनों में 20 लाख से ज्यादा ट्वीट भी हो चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: दतिया में लगेगा तीन दिवसीय रोजगार मेला, युवाओं के लिए रहेंगे रोजगार अवसर 

क्या है छात्रों की मांग

  • समय पर परीक्षा हो
  • परीक्षा का रिजल्ट जल्दी जारी किया जाए
  • एक साल के भीतर ज्वाइनिंग दी जाए
  • सीजीएल 2019 टियर -2 का परीक्षा फिर से हो
  • भर्ती प्रक्रिया में सुधार किया जाए

एक करोड़ नौजवानों को देंगे रोजगार

मनमोहन सिंह की सरकार के समय साल 2013 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दावा किया था कि जब हमारी सरकार बनेगी तब हम हर साल एक करोड़ नौजवानों को रोजगार देंगे। लेकिन आज रोजगार के मुद्दों को लेकर छात्रों ने मोर्चा संभाला हुआ है। छात्रों का कहना है कि हम सरकारी नौकरी की तैयारी करते हैं, फॉर्म भरते हैं, परीक्षा होने में भी काफी समय लगता है। अगर समय पर परीक्षा हो गई तो रिजल्ट आने में सालों लग जाते हैं और रिजल्ट के बाद वैरिफिकेशन, ज्वाइनिंग को मिला लिया जाए तो पूरी प्रक्रिया में करीब 4-5 साल का समय लग जाता है। 

इसे भी पढ़ें: प्रतिभा के साथ अधिक रोजगार देने के मामले में महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश सबसे आगे 

मोदी रोजगार दो अभियान की हो रही शुरुआत

छात्र पहले भी प्रतियोगी परिक्षाओं को लेकर केंद्र के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभियान चला चुके हैं। जब कोरोना महामारी के समय में परीक्षाओं को स्थगित किया गया था उस वक्त उन्होंने 'मैं भी बेरोजगार हूं' अभियान चलाया था और अब वह 'मोदी रोजगार दो' अभियान की शुरुआत कर रहे हैं। यह अभियान 25 फरवरी से शुरू होने वाला था लेकिन यह पहले ही ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। क्योंकि कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल (सीजीएल) टियर-2 परीक्षा का परिणाम 19 फरवरी को जारी हुआ था और छात्रों ने 15, 16 और 18 नवंबर को आयोजित हुई परीक्षा के परिणाम की प्रक्रिया पर सवाल उठाया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विरोध कर रहे लोगों का आरोप है कि 18 नवंबर को आयोजित हुई परीक्षा आसान थी और छात्रों ने 200 अंक में 200 अंक तक हासिल किए लेकिन जब परीक्षा परिणाम जारी हुआ तो कई छात्रों का सलेक्शन नहीं हुआ। इतना ही नहीं छात्रों का आरोप है कि 18 नवंबर वाली परीक्षा में 100 नंबर तक काट दिए गए हैं जबकि 15 और 16 नवंबर के दिन जिनकी परीक्षा हुई थी उनमें से कई लोगों के नंबर 50 से 80 तक बढ़ाए गए हैं। छात्रों को यह समझ में नहीं आ रहा है कि ऐसा किस प्रक्रिया के तहत किया गया है और इसी को लेकर उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा प्रकट किया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


वाईएसआर कांग्रेस के 6 उम्मीदवार विधान परिषद के लिए निर्विरोध निर्वाचित हुए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   20:45
  • Like
वाईएसआर कांग्रेस के 6 उम्मीदवार विधान परिषद के लिए निर्विरोध निर्वाचित हुए

शेख मोहम्मद इकबाल दूसरे कार्यकाल के लिये निर्वाचित हुए हैं जबकि वरिष्ठ नेता सी रामचंद्रैया चार साल के अंतराल के बाद विधान परिषद में आए हैं। द्विवार्षिक चुनाव में अन्य निर्वाचित उम्मीदवारों में तिरुपति के दिवंगत सांसद दुर्गा प्रसाद राव के पुत्र बी कल्याण चक्रवर्ती, विजयवाड़ा से मोहम्मद करीमुन्नीसा और श्रीकाकुलम से डी श्रीनिवास निर्वाचित हुए है।

अमरावती। आंध्र प्रदेश में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस के छह उम्मीदवार सोमवार को विधान परिषद के लिए निर्विरोध निर्वाचित हो गये। विधान परिषद उप सचिव एवं चुनाव अधिकारी ने छहों उम्मीदवार को निर्वाचित घोषित कर दिया, क्योंकि इन सीटों के लिए किसी अन्य उम्मीदवार ने नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया था। शेख मोहम्मद इकबाल दूसरे कार्यकाल के लिये निर्वाचित हुए हैं जबकि वरिष्ठ नेता सी रामचंद्रैया चार साल के अंतराल के बाद विधान परिषद में आए हैं। द्विवार्षिक चुनाव में अन्य निर्वाचित उम्मीदवारों में तिरुपति के दिवंगत सांसद दुर्गा प्रसाद राव के पुत्र बी कल्याण चक्रवर्ती, विजयवाड़ा से मोहम्मद करीमुन्नीसा और श्रीकाकुलम से डी श्रीनिवास निर्वाचित हुए है। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के एक्टिव मरीजों की संख्या एक हजार के पार 

सी भगीरथ रेड्डी अपने पिता रामकृष्ण रेड्डी के निधन से खाली हुई कुर्नूल सीट को भरेंगे। उनका कार्यकाल 29 मार्च 2023 तक रहेगा। इनमें से पांच उम्मीदवार विधायक कोटा के तहत द्विवार्षिक चुनाव में छह साल के लिये निर्वाचित हुए हैं जबकि एक उम्मीदवार उपचुनाव में दो साल के कार्यकाल के निर्वाचित हुआ है। इसके साथ ही, राज्य विधान मंडल के 58 सदस्यीय उच्च सदन में वाईएसआर कांग्रेस सदस्यों की संख्या बढ़ कर 14 हो गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के एक्टिव मरीजों की संख्या एक हजार के पार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   20:39
  • Like
आंध्र प्रदेश में कोविड-19 के एक्टिव मरीजों की संख्या एक हजार के पार

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी एक बुलेटिन के अनुसार सोमवार को सुबह नौ बजे तक पिछले 24 घंटे में 61 मरीज ठीक हो गए जबकि दो और मरीजों की मौत हो गई।

अमरावती। आंध्र प्रदेश में सोमवार को संक्रमण के 74 नए मामले सामने आए जिसके बाद कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या एक बार फिर एक हजार से अधिक हो गई। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी एक बुलेटिन के अनुसार सोमवार को सुबह नौ बजे तक पिछले 24 घंटे में 61 मरीज ठीक हो गए जबकि दो और मरीजों की मौत हो गई। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के कारण PCB इन दो दौरों के लिए 30 सदस्यीय टीम भेजने की बना रहा योजना 

बुलेटिन के अनुसार राज्य में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 8,90,766 मामले सामने आ चुके हैं, 8,82,581 मरीज ठीक हो चुके हैं और महामारी से 7,176 मरीजों की मौत हो चुकी है। वर्तमान में 1009 मरीज उपचाराधीन हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


भारतीय स्वाधीनता के 75 साल, PM मोदी 12 मार्च को 'अमृत महोत्सव' की करेंगे शुरूआत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   20:35
  • Like
भारतीय स्वाधीनता के 75 साल, PM मोदी 12 मार्च को 'अमृत महोत्सव' की करेंगे शुरूआत

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बताया कि इस अवसर पर प्रधानमंत्री 12 मार्च को गुजरात में रहेंगे जहां वह अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम की शुरूआत करेंगे।

गांधीनगर। देश की स्वतंत्रता के 75 साल पूरा होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 मार्च को गुजरात से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ की शुरूआत करेंगे। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने इसकी जानकारी दी। रूपाणी ने रविवार को संवाददाताओं को बताया कि प्रधानमंत्री साबरमती आश्रम से 21 दिनों तक चलने वाली ‘दांडी यात्रा’ को भी हरी झंडी दिखायेंगे। भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान महात्मा गांधी साबरमती आश्रम में ही रहते थे। 

इसे भी पढ़ें: जनभागीदारी देश की आजादी के 75वें वर्ष के उत्सव की मूल भावना: PM मोदी 

उन्होंने बताया कि इस अवसर पर प्रधानमंत्री 12 मार्च को गुजरात में रहेंगे जहां वह अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम की शुरूआत करेंगे। महात्मा गांधी ने दांडी मार्च की अगुवाई की थी। ब्रिटिश सरकार के नमक के एकाधिकार के खिलाफ 1930 में साबरमती आश्रम से नवसारी के दांडी तक की यात्रा की थी। यह यात्रा 12 मार्च 1930 से लेकर छह अप्रैल 1930 के बीच हुयी थी। 

इसे भी पढ़ें: महिला दिवस पर ममता का दांव, भाजपा को घेरने के लिए निकाला 'पैदल मार्च' 

पिछले हफ्ते केंद्र ने देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय राष्ट्रीय समिति के गठन की घोषणा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोवार को कहा था कि भारत की स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष के अवसर पर आयोजित होने वाले समारोहों में आजादी के आंदोलन की भावना प्रदर्शित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह 1947 से हमारी उपलब्धियों को दुनिया को दिखाने का अवसर है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept