लखनऊ में आज एक साथ मोदी-शाह-डोभाल, लिया जा सकता है अहम फैसला

लखनऊ में आज एक साथ मोदी-शाह-डोभाल, लिया जा सकता है अहम फैसला

दो दिन पीएम मोदी इस कॉन्फ्रेंस में शिरकत कर रहे हैं। ये कॉन्फ्रेंस कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पीएम मोदी का आज का 10 घंटे तक का कार्यक्रम इस कॉन्फ्रेंस के लिए है।

प्रधानमंत्री अपने यूपी दौरे के दूसरे दिन आज लखनऊ में हैं और यहां उनका दो दिवयीय कार्यक्रम है। आज और कल पीएम मोदी लखनऊ में चल रही डीजी कॉनफ्रेंस में हिस्सा ले रहे हैं। इस कॉनफ्रेंस में सभी राज्यों के डीजीपी, सेंट्रल पुलिस के चीफ और सेंट्रल पुलिस ऑर्गनाइजेशन के  हेड हिस्सा ले रहे हैं। वह आज सुबह नौ बजकर 15 मिनट पर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पुलिस मुख्यालय पहुंच गए। कार्यक्रम के अनुसार प्रधानमंत्री शाम 7.15 बजे तक पुलिस मुख्यालय में रहेंगे। दो दिन पीएम मोदी इस कॉन्फ्रेंस में शिरकत कर रहे हैं। ये कॉन्फ्रेंस कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पीएम मोदी का आज का 10 घंटे तक का कार्यक्रम इस कॉन्फ्रेंस के लिए है। कल भी सुबह नौ बजे से लेकर शाम को चार बजे तक पीएम मोदी इस कॉन्फ्रेंस में रहेंगे। 

कौन-कौन हो रहे शामिल

पीएम मोदी

गृह मंत्री अमित शाह 

एनएसए डोभाल

केंद्रीय गृह सचिव

तीन डिप्टी एनएसए

आईबी डॉयरेक्टर

सीबीआई के डॉयरेक्टर

सभी राज्यों के डीजीपी

सभी केंद्रीय बलों के डीजी

दिल्ली पुलिस के कमिश्वनर

मुंबई पुलिस के कमिश्वनर

इसे भी पढ़ें: वरुण गांधी ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, कहा- लखीमपुर खीरी घटना लोकतंत्र पर धब्बा, केंद्रीय मंत्री के खिलाफ हो कार्रवाई

56वें डीजी कॉन्फ्रेंस का एजेंडा

पहली बार ये कॉन्फ्रेंस हाईब्रेड मोड में आयोजित किया जा रहा है। जिसमें तमाम अधिकारी इसमें वर्चुअल माध्यम से जुड़ रहे हैं।  इस कॉन्फ्रेंस में नई चुनौतियोें पर बात होगी। जिसमें साइबर क्राइम, डेटा गवर्नेंस, काउंटर टेररिज्म की चुनौतियां, वामपंथी उग्रवाद,  कोस्टल सिक्योरिटी, नारकोटिक्स और जेल सुधार भी शामिल हैं। उत्तर प्रदेश में पहली बार आयोजित इस सम्मेलन में नक्सलवाद, आतंकवाद और माफिया तत्वों पर प्रभावी तरीके से अंकुश लगाने के उपायों पर चर्चा हो रही है। इस दौरान पीएम मोदी के सामने कई प्रजेंटेशन भी होंगे। इसमें उत्तर प्रदेश की मॉडर्न पुलिसिंग को लेकर भी चर्चा की जाएगी।






नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।