कोरोना संकट के दौरान उच्च जनसंख्या घनत्व के ‘विनाशकारी परिणाम’ झेल रही मुंबई: गडकरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   22:02
कोरोना संकट के दौरान उच्च जनसंख्या घनत्व के ‘विनाशकारी परिणाम’ झेल रही मुंबई: गडकरी

गडकरी के पास सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय भी है। उन्होंने कहा कि धारावी में करीब डेढ़ लाख लोग विशेष तौर पर चर्म उद्योग में काम करते हैं। उन्होंने मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेसवे के पास जगह दी जा सकती है।

मुंबई।  केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि देश की वित्तीय राजधानी को भीड़भाड़ मुक्त करने की जरूरत है, क्योंकि कोविड-19 महामारी के दौरान इस शहर को उच्च जनसंख्या घनत्व के ‘विनाशकारी परिणाम’ झेलने पड़ रहे हैं। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने शहर में कोरोना वायरस संक्रमितों की बड़ी संख्या के संदर्भ में यह बात कही। उन्होंने भविष्य में तैयार होने वाले नए दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के साथ-साथ धारावी की टैनरियों को जमीन देने की भी पेशकश की।

धारावी अकेले में कोरोना वायरस के 1,600 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। ऐसी भी खबरें हैं कि अधिक दबाव की वजह से स्वास्थ्य सेवाएं भी बंद हो रही हैं। महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक संघ की ओर से आयोजित एक वेबिनार के दौरान गडकरी ने कहा, ‘‘मुंबई को भीड़भाड़ मुक्त बनाने की जरूरत है। इसी भीड़भाड़ की वजह से उसे यह विनाशकारी परिणाम देखने पड़ रहे हैं। यहां बहुत अधिक जनसंख्या घनत्व है और इसकी वजह से कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है भाजपा: प्रियंका

गडकरी के पास सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय भी है। उन्होंने कहा कि धारावी में करीब डेढ़ लाख लोग विशेष तौर पर चर्म उद्योग में काम करते हैं। उन्होंने मुंबई-दिल्ली एक्सप्रेसवे के पास जगह दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार केंद्र से संपर्क करके चर्म उद्योग को एक्सप्रेसवे के साथ राज्य में ही स्थानांतरित कर सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।