UP ATS की पूछताछ में बड़ा खुलासा, ISIS के संपर्क में था गोरखनाथ मंदिर में हमले का आरोपी मुर्तजा

UP ATS की पूछताछ में बड़ा खुलासा, ISIS के संपर्क में था गोरखनाथ मंदिर में हमले का आरोपी मुर्तजा

दावा किया जा रहा है कि सोशल मीडिया के जरिए मोर्तजा आईएसआईएस के लोगों के संपर्क में था। वह विदेशों में बैठे आतंकियों और उसके समर्थकों से लगातार संपर्क में रहता था। वह सोशल मीडिया के जरिए बेंगलुरु पुलिस के हाथों गिरफ्तार आईएसआईएस के आतंकी और प्रोपेगेंडा एक्टिविस्ट मेहंदी मसूद के साथ संपर्क में था।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मंदिर की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर हमला हुआ था। हमले का मुख्य आरोपी मुर्तजा को गिरफ्तार कर लिया गया था। मुर्तजा अब्बासी से लगातार यूपी एटीएस की टीम पूछताछ कर रही है। इन सब के बीच बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल, आरोपी मुर्तजा अब्बासी आईएसआईएस के संपर्क में था। खबर यह है कि मुर्तजा आईएसआईएस के आतंकी और प्रोपेगेंडा एक्टिविस्ट मेहंदी मसूद के साथ संपर्क में था। इस बात की जानकारी उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने दी है। उन्होंने बताया कि मुर्तजा अब्बासी से पूछताछ के बाद उसका आईएसआईएस कनेक्शन सामने आया है। इसको लेकर ठोस सुबूत भी प्राप्त हुए हैं।

प्रशांत कुमार ने बताया कि यूपी एटीएस द्वारा आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी की जांच के बाद, उसके कई ई-डिवाइस, उसके विभिन्न सोशल मीडिया अकाउंट जैसे जीमेल, ट्विटर, फेसबुक और ई-वॉलेट का डेटा विश्लेषण किया गया। उन्होंने बताया कि आरोपी ने अपने बैंक खातों के माध्यम से यूरोप और अमेरिका के विभिन्न देशों में ISIS समर्थकों से संबंधित संगठनों के माध्यम से ISIS की आतंकी गतिविधियों का समर्थन करने के लिए लगभग 8.5 लाख भारतीय रुपये भेजे। उसने इंटरनेट के माध्यम से विभिन्न हथियार - AK47, M4 कार्बाइन और अन्य मिसाइल तकनीक भेजी।

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर ट्रिपल मर्डर केस में सामने आया CCTV फुटेज, कौन था सफेद शर्ट में शख्स; गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस

प्रशांत कुमार ने आगे बताया कि अपनी आतंकी मांगों को पूरा करने के लिए, उसने गोरखनाथ मंदिर के दक्षिणी द्वार पर घातक हमला किया और ड्यूटी पर सुरक्षा अधिकारियों की राइफल छीनने का प्रयास किया। उसका इरादा हथियार छीनकर बड़ा ऑपरेशन करने का था। दावा किया जा रहा है कि सोशल मीडिया के जरिए मोर्तजा आईएसआईएस के लोगों के संपर्क में था। वह विदेशों में बैठे आतंकियों और उसके समर्थकों से लगातार संपर्क में रहता था। वह सोशल मीडिया के जरिए बेंगलुरु पुलिस के हाथों गिरफ्तार आईएसआईएस के आतंकी और प्रोपेगेंडा एक्टिविस्ट मेहंदी मसूद के साथ संपर्क में था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।