MVA संकट: 'बालासाहेब के हिंदुत्व को बढ़ावा दे रहे एकनाथ', बागी सामंत ने कांग्रेस-NCP पर लगाए गंभीर आरोप

Uday Samant
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
शिवसेना के बागी विधायक उदय सामंत ने कहा कि मैं गुवाहाटी आया हूं क्योंकि मैं उन लोगों की साजिशों से थक गया हूं जो पिछले कुछ दिनों से शिवसेना को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस-एनसीपी के घटक दलों ने संभाजी छत्रपति को राज्यसभा चुनाव में चुने जाने से रोकने की कोशिश की।

मुंबई। महाराष्ट्र की सियासी लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी बीच शिवसेना के बागी विधायक उदय सामंत ने महाविकास अघाड़ी (एमवीए) पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-एनसीपी के घटक दलों ने संभाजी छत्रपति को राज्यसभा चुनाव में चुने जाने से रोकने की कोशिश की। दरअसल, एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बागी विधायकों ने गुवाहाटी में अपना डेरा जमाया हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: 'ठाकरे परिवार को नहीं दे सकते सलाह', MVA नेता बोले- समय से 10 साल आगे है आदित्य की राजनीति 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, शिवसेना के बागी विधायक उदय सामंत ने कहा कि मैं गुवाहाटी आया हूं क्योंकि मैं उन लोगों की साजिशों से थक गया हूं जो पिछले कुछ दिनों से शिवसेना को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस-एनसीपी के घटक दलों ने संभाजी छत्रपति को राज्यसभा चुनाव में चुने जाने से रोकने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि मैंने एकनाथ शिंदे के साथ जाने का फैसला किया, जो बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व को बढ़ावा दे रहे हैं। वैसे भी मैं अभी भी शिवसेना में हूं और कोंकण के लोगों को सामान्य शिवसैनिकों को गलत नहीं समझना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: रण से याचना की मुद्रा: बागी विधायकों से उद्धव की भावुक अपील, मुझे आपकी फिक्र है, अभी बहुत देर नहीं हुई 

आपको बता दें कि उदय सामंत एकनाथ शिंदे कैंप में शामिल होने वाले 8वें मंत्री थे। उन्होंने 26 जून को अचानक एकनाथ शिंदे कैंप में शामिल होने की योजना बनाई और गुवाहाटी पहुंच गए। बताया जा रहा है कि एकनाथ शिंद के साथ शिवसेना के 40 बागी विधायक समेत 50 विधायकों का समर्थन है। यह तमाम विधायक गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं, जहां पर महाराष्ट्र की सियासत का भविष्य निर्धारित किया जा रहा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़