किसी के संपर्क में नहीं हैं बागी विधायक सुहास कांडे, बोले- हम अपनी मर्जी से शिंदे कैंप में हुए शामिल

Suhas Kande
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
शिवसेना के बागी विधायक सुहास कांडे ने असम में मीडियाकर्मियों से बातचीत पर कहा कि हम अपनी मर्जी से एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी आए हैं। वह बालासाहेब ठाकरे की हिंदुत्व विचारधारा को ईमानदारी से आगे बढ़ा रहे हैं। दरअसल, आदित्य ठाकरे ने बीते दिनों दावा किया था कि 15-20 विधायक उनके संपर्क में हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र की सियासी लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी बीच शिवसेना के बागी विधायक सुहास कांडे ने कहा कि हम अपनी मर्जी के एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी में हैं। दरअसल, महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने दावा किया था कि एकनाथ शिंदे कैंप में शामिल शिवसेना के 15 से 20 विधायक उनके संपर्क में हैं और पार्टी से उन्हें गुवाहाटी से मुंबई वापस लाने का आग्रह किया है।

किसी के संपर्क में नहीं हैं कांडे

शिवसेना के बागी विधायक सुहास कांडे ने असम में मीडियाकर्मियों से बातचीत पर कहा कि हम अपनी मर्जी से एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी आए हैं। वह बालासाहेब ठाकरे की हिंदुत्व विचारधारा को ईमानदारी से आगे बढ़ा रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने 'क्या वह एकनाथ शिंदे कैंप को छोड़कर किसी और के संपर्क में हैं' के सवाल पर कहा कि हम जनता और शिवसैनिकों से अनुरोध करते हैं कि इस तरह की अफवाहों और गलत सूचनाओं को फैलाने से बचें।

क्या ठाकरे के संपर्क में हैं 15 से 20 विधायक ?

आदित्य ठाकरे ने सोमवार को दावा किया कि बागी खेमे में शामिल हुए शिवसेना के 15 से 20 विधायक उनके संपर्क में हैं और पार्टी से उन्हें गुवाहाटी से मुंबई वापस लाने का आग्रह किया है। ये बागी विधायक कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में ठहरे हुए हैं और उनकी इस बगावत के चलते एमवीए सरकार पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

CM ठाकरे की भावुक अपील

मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बागी विधायकों से भावुक अपील करते हुए कहा कि आओ और चर्चा करें; आप में से कई लोग हमारे संपर्क में हैं, आप अभी भी दिल से शिवसेना में हैं, कुछ विधायकों के परिवार के सदस्यों ने भी मुझसे संपर्क किया है और अपनी भावनाओं से मुझे अवगत कराया है...

न्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से गुवाहाटी में मौजूद बागी विधायकों को लेकर हर दिन नई जानकारी सामने आ रही है। शिवसेना के परिवार के मुखिया के रूप में मैं आपकी भावनाओं का सम्मान करता हूं, भ्रम से छुटकारा दिलाता हूं... हम साथ बैठेंगे और इसका कोई रास्ता निकालेंगे... अगर आप आगे आकर बोलेंगे तो हम कोई रास्ता निकाल लेंगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़