करगिल युद्ध में नायक दिगेन्द्र ने काटी थी पाकिस्तानी मेजर की गर्दन,ऑपरेशन विजय में ऐसे मिली थी पहली जीत!

Naik Digendra cut the neck of Pakistani Major in Kargil War
निधि अविनाश । Jul 24, 2021 10:58PM
इस बीच दिगेंद्र ने 48 पाकिस्तानी सैनिकों और घुसपैठियों को मार डाला, जिसमें एक मेजर भी शामिल था, जिसे उसने अपने कवच पर 18 गोलियां लेते हुए अपने डीगल से अनवर खान की गर्दन काट दी। उनके इस असीम साहस और वीरता के लिए भारत के राष्ट्रपति ने बाद में उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया।

कैप्टन विक्रम बत्रा, और नायक योगेंद्र सिंह यादव जैसे नामों के बीच, कारगिल में पाकिस्तान को सबक सिखाने वाले कई नायकों में से एक जीत नाइक दिगेन्द्र कुमार भी हैं। 13 जून को राजपुताना राइफल्स की दूसरी बटालियन के मेजर विवेक गुप्ता और उनकी कंपनी को द्रास सेक्टर के तोलोलिंग हिल पर प्वाइंट 4590 पर फिर से कब्जा करने का काम सौंपा गया। इनका उद्देश्य 15,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित दुश्मन की चौकी पर कब्जा करना था। मेजर गुप्ता की कमान में दिगेंद्र ने अपनी कंपनी के हमले के दौरान लाइट मशीन गन ग्रुप की कमान संभाली।

इसे भी पढ़ें: लेफ्टिनेंट नोंग्रुम, बंकरों में छिपे पाकिस्तानी के छह सैनिकों को किया था गोलियों से छल्ली!

पाकिस्तानियों ने तोलोलिंग पहाड़ी की चोटी पर 11 बंकर बनाए थे और कुमार को पहले और आखिरी बंकर को निशाना बनाने का आदेश दिया गया था।लक्ष्य के करीब पहुंचते ही, असॉल्ट ग्रुप दुश्मन की गोलाबारी में आ गया और हताहत हो गया। कमांडर मेजर विवेक गुप्ता सहित कई सैनिक स्वयं शहीद हो गए, लेकिन कुमार अपने बाएं हाथ में गोली लगने के बावजूद अपनी लाइट मशीन गन से फायरिंग करते रहे। इस बीच दिगेंद्र ने 48 पाकिस्तानी सैनिकों और घुसपैठियों को मार डाला, जिसमें एक मेजर भी शामिल था, दिगेंद्र ने अपने कवच पर 18 गोलियां लेते हुए अपने डीगल से अनवर खान की गर्दन काट दी। उनके इस असीम साहस और वीरता के लिए भारत के राष्ट्रपति ने बाद में उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़