नाना पटोले का NCP से सवाल, समझौता तोड़ भाजपा के साथ सत्ता स्थापित करना, पीठ में खंजर घोंपना नहीं है तो...

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 12, 2022   20:23
नाना पटोले का NCP से सवाल, समझौता तोड़ भाजपा के साथ सत्ता स्थापित करना, पीठ में खंजर घोंपना नहीं है तो...

पटोले ने आगे कहा कि भंडारा, गोंदिया जिला परिषद चुनाव के नतीजों के बाद महाविकास आघाड़ी में शामिल तीनों दलों ने एक साथ आकर सत्ता स्थापित करने का फैसला किया था। तीनों पक्षों की ओर से 30 जनवरी 2022 को एक पत्र भी जारी किया गया था।

भंडारा, गोंदिया जिला परिषद और पंचायत समिति चुनाव में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महाविकास आघाड़ी के लिखित समझौते को तोड़ कर भाजपा के साथ सत्ता स्थापित की है। इसे पीठ में खंजर घोंपना नहीं है तो फिर और क्या कहेंगे? कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने राकांपा नेताओं से यह सवाल पूछा है। उन्होंने कहा कि मेरे बैकग्राउंड के बारे में पूरे देश और राज्य को पता हैl मैं जो कुछ भी करता हूं, वह खुलेआम करता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश में विचारों और विकास की लड़ाई लड़ रही है और  हम इसके परिणाम को लेकर चिंतित नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे, आदित्य हों या पवार सभी अयोध्या के द्वार, वजूद को नकारने वाली कांग्रेस भी कहने लगी- रामलला हम आएंगे

इस संदर्भ में पटोले ने आगे कहा कि भंडारा, गोंदिया जिला परिषद चुनाव के नतीजों के बाद महाविकास आघाड़ी में शामिल तीनों दलों ने एक साथ आकर सत्ता स्थापित करने का फैसला किया था। तीनों पक्षों की ओर से 30 जनवरी 2022 को एक पत्र भी जारी किया गया था। इस पत्र पर मेरे अलावा राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल और शिवसेना के सुभाष देसाई ने हस्ताक्षर किए थे। पटोले ने कहा कि महाविकास आघाडी के गठबंधन के अनुसार, मैं जयंत पाटिल और प्रफुल्ल पटेल के संपर्क में रहा और भंडारा और गोंदिया जिला परिषद और पंचायत समिति अध्यक्ष और अध्यक्ष चुनाव में गठबंधन पर चर्चा की। एनसीपी ने हमें अंत तक अंधेरे में रखा और अंतिम समय में भाजपा के साथ जाकर पंचायत समिति और गोंदिया जिला परिषद में सत्ता स्थापित की। जयंत पाटिल ने भी इस बात को स्वीकार किया है कि मैंने उनसे अक्सर संपर्क किया था। अगर राकांपा नेताओं ने पहले कहा होता कि वह बीजेपी के साथ जाना चाहते हैं तो हमें कोई दिक्कत नहीं होती, लेकिन अफ़सोस की बात है कि उन्होंने हमें अंधेरे में रखकर बीजेपी से हाथ मिलाया है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस नेता पटोले की पीठ में छुरा घोंपने वाली टिप्पणी को अजीत पवार ने बताया हास्यास्पद

नाना पटोले ने कहा कि कांग्रेस की भूमिका ईमानदार से दोस्ती करना और उसे निभाए  रखने की रही है, हमलोगों ने हमेशा से गठबंधन धर्म का पालन किया हैl हम हमेशा आगे से लड़ते हैं और पीछे से  वार नहीं करते हैं। मेरे आलोचक भी मेरी पृष्ठभूमि से अच्छी तरह से वाकिफ हैं। मुझे इसके बारे में बात करने की जरूरत नहीं हैl मैं पार्टी नेताओं को बताऊंगा कि पिछले ढाई साल में राकांपा ने हमारे साथ कैसा व्यवहार किया है। इस दगाबाजी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगाl कांग्रेस, कभी सत्ता के लिए इस तरह का खेल नहीं खेलती है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस परिणामों का सामना करने में पूरी तरह से सक्षम है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।