कोविड-19 रोधी टीकों की कीमतों में एकरूपता के लिए केंद्र बनाए राष्ट्रीय नीति : मायावती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2021   10:46
कोविड-19 रोधी टीकों की कीमतों में एकरूपता के लिए केंद्र बनाए राष्ट्रीय नीति : मायावती

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से कोविड-19 रोधी टीकों की कीमतों में एकरूपता रखने के लिए एक राष्ट्रीय नीति बनाने की मांग की। बसपा प्रमुख ने शुक्रवार को एक ट्वीट के जरिये अपनी मांग रखी।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से कोविड-19 रोधी टीकों की कीमतों में एकरूपता रखने के लिए एक राष्ट्रीय नीति बनाने की मांग की। बसपा प्रमुख ने शुक्रवार को एक ट्वीट के जरिये अपनी मांग रखी। उन्होंने ट्वीट में कहा, देश में कोरोना वायरस रोधी टीके की कीमत केन्द्र, राज्य सरकार और निजी अस्पतालों के लिए एक समान नहीं होकर इसकी कीमत अलग-अलग निर्धारित करने के मामले में भारत सरकार को दखल देने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी सांसदों ने भारत में कोविड-19 की स्थिति पर चिंता जतायी, मदद की अपील की

मायावती ने कहा, केन्द्र सरकार से इस संबंध में एकरूपता वाली राष्ट्रीय नीति बनाकर उसपर अमल करने की मांग है। साथ ही, देश के विभिन्न राज्यों व राजधानी दिल्ली के बड़े अस्पतालों में भी ऑक्सीजन की कमी के मद्देनजर केंद्र ऑक्सीजन के औद्योगिक, वाणिज्यिक प्रयोग को रोककर अस्पतालों को इसकी आपूर्ति सुनिश्चित करे। उन्होंने केंद्र से जरूरी दवाओं की आपूर्ति की ओर भी विशेष ध्यान देने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें: उद्योग पुनरुद्धार की राह पर, विनिवेश सहित अन्य बजट प्रस्ताव पटरी पर : सीतारमण

गौरतलब है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 रोधी टीके की कीमत राज्य सरकारों के लिए 400 रुपये प्रति खुराक तथा निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपये प्रति खुराक होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।