अरविंद केजरीवाल पर बरसे नवजोत सिंह सिद्धू, बताया प्रवासी पक्षी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2022   21:31
अरविंद केजरीवाल पर बरसे नवजोत सिंह सिद्धू, बताया प्रवासी पक्षी

आप के ‘जनता चुनेगी अपना मुख्यमंत्री’ अभियान के बारे में पूछे गये एक प्रश्न के जवाब में पूर्व क्रिकेटर ने इसे ‘नौटंकी’ करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘यह भगवंत मान को मूर्ख बनाने के लिए नौटंकी की जा रही है।

अमृतसर। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को ‘प्रवासी पक्षी’ बताते हुए कहा कि वह अनेक राज्यों में जाकर झूठे वादे करके लोगों को लुभाते हैं और कभी-कभी दिल्ली वापस आते हैं। सिद्धू ने अपने आवास पर संवाददाता सम्मेलन में दिल्ली के मुख्यमंत्री पर पंजाब की जनता के साथ भी ‘झूठे’ वादे करने का आरोप लगाया। उन्होंने दावा किया कि केजरीवाल के पास राज्य के लिए कोई रूपरेखा नहीं है और वह दिल्ली से रिमोट कंट्रोल से पंजाब को चलाना चाहते हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि केजरीवाल के मंत्रिमंडल में एक भी पंजाबी नहीं है, ऐसे में वह पंजाब की बेहतरी के बारे में कैसे सोच सकते हैं।

आप के ‘जनता चुनेगी अपना मुख्यमंत्री’ अभियान के बारे में पूछे गये एक प्रश्न के जवाब में पूर्व क्रिकेटर ने इसे ‘नौटंकी’ करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘यह भगवंत मान को मूर्ख बनाने के लिए नौटंकी की जा रही है। मुझे अपने पुराने दोस्त मान के प्रति बहुत सम्मान है जो मुझे गुरु बुलाते हैं। दिल्ली में केजरीवाल ने जनता से इस तरह की राय नहीं मांगी और मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने में थोड़ा भी वक्त नहीं लगाया।’’ पंजाब में कांग्रेस के उम्मीदवारों की पहली सूची की घोषणा के बाद कुछ नेताओं के बगावत करने के बारे में पूछे जाने पर सिद्धू ने कहा कि वह उन नेताओं से पार्टी का समर्थन करने की अपील करते हैं और जरूरत पड़ी तो वे उन्हें मिलकर संतुष्ट करने का प्रयास करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।