NCP ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की अफवाह को लेकर भाजपा पर साधा निशाना, कहा- स्थिर है सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   15:27
NCP ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की अफवाह को लेकर भाजपा पर साधा निशाना, कहा- स्थिर है सरकार

भाजपा के राज्यसभा सदस्य नारायण राणे ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से सोमवार को मुलाकात की और वैश्विक महामारी से निपटने में शिवसेना नीत राज्य सरकार की ‘‘विफलता” के मद्देनजर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की।

मुंबई। भाजपा पर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की अफवाह फैलाने को लेकर निशाना साधते हुए राज्य के मंत्री और राकांपा नेता नवाब मलिक ने मंगलवार को कहा कि महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार मजबूत और स्थिर है और अपना कार्यकाल पूरा करेगी। मलिक ने भरोसा जताया कि संख्या बल (विधायकों की) महाराष्ट्र विकास आघाडी (एमवीए) के पक्ष में है और तीनों दल - शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस एकजुट हैं।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के राष्ट्रीय प्रवक्ता मलिक ने एक चैनल को बताया, “सरकार मजबूत एवं स्थिर है। संख्या बल एमवीए के पक्ष में है। तीनों दल एकजुट हैं।” उन्होंने कहा, “लेकिन भाजपा के लोग पिछले कुछ दिनों से अफवाह फैला रहे हैं कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगेगा और यह सरकार गिरेगी।”  उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार कोविड-19 से लड़ने में केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन कर रही है। मलिक ने दावा किया कि देश में सबसे ज्यादा लोगों की जांच महाराष्ट्र में हुई है। उन्होंने कहा, “हमारी सरकार अच्छा प्रदर्शन कर रही है....भाजपा अफवाह फैला रही है...हमारी सरकार मजबूत है।” 

इसे भी पढ़ें: शिवसेना ने महाराष्ट्र भाजपा की आलोचना की, पर मोदी और शाह को सराहा

भाजपा के राज्यसभा सदस्य नारायण राणे ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से सोमवार को मुलाकात की और वैश्विक महामारी से निपटने में शिवसेना नीत राज्य सरकार की ‘‘विफलता” के मद्देनजर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की। राणे ने संवाददाताओं से कहा कि एमवीए सरकार ने इस अभूतपूर्व संकट के वक्त प्रशासनिक मामलों को बिगाड़ दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।