देश में आज हुए लोकसभा चुनाव तो एनडीए को मिलेंगी 296 सीटें, यूपी में 66 फ़ीसदी लोग योगी के कामकाज से संतुष्ट

देश में आज हुए लोकसभा चुनाव तो एनडीए को मिलेंगी 296 सीटें, यूपी में 66 फ़ीसदी लोग योगी के कामकाज से संतुष्ट

सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को लेकर भी जनता से सवाल पूछा गया। 35 फ़ीसदी जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को बहुत अच्छा बताया है जबकि 28 फ़ीसदी ने अच्छा कहा है। 15 फ़ीसदी लोगों का मानना है कि प्रधानमंत्री मोदी का कामकाज औसत रहा है।

आज इंडिया टुडे c-voter का एक सर्वे आया है। इस सर्वे में आज के हालातों पर लोगों से चर्चा की गई है। सर्वे के मुताबिक अगर आज के हालात में देश में लोकसभा के चुनाव होते हैं तो भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए को 296 सीटें मिल सकती है। जबकि कांग्रेस नीत यूपीए को 127 सीटें मिल सकती हैं। अन्य के खाते में 130 सीटें जाती दिखाई दे रही है। आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि इस सर्वे का सैंपल साइज 60141 है जबकि सभी 543 लोकसभा क्षेत्रों को इसमें शामिल किया गया है। अगर वोट प्रतिशत के हिसाब से देखें तो आज के समय में चुनाव होते है तो भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए को 40.7 फ़ीसदी वोट मिल सकता है। कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए को 26.7 फ़ीसदी वोट मिल सकता है। वहीं अन्य दलों के खाते में 32.6 फ़ीसदी वोट जाता दिखाई दे रहा है। 

इसे भी पढ़ें: अरुणाचल से किशोर के अपहरण पर चुप क्यों हैं प्रधानमंत्री, देश को जवाब दें: कांग्रेस

सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को लेकर भी जनता से सवाल पूछा गया। 35 फ़ीसदी जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज को बहुत अच्छा बताया है जबकि 28 फ़ीसदी ने अच्छा कहा है। 15 फ़ीसदी लोगों का मानना है कि प्रधानमंत्री मोदी का कामकाज औसत रहा है। खराब कहने वाले 8 फ़ीसदी हैं जबकि बहुत खराब 12 फ़ीसदी लोग कह रहे हैं। वही देश के लिए बेहतर प्रधानमंत्री कौन है, इसके जवाब में 53 फ़ीसदी लोगों ने नरेंद्र मोदी का नाम लिया है जबकि 7 फ़ीसदी लोग राहुल गांधी के पक्ष में है और 6 फ़ीसदी लोगों ने योगी आदित्यनाथ को बेहतर प्रधानमंत्री के रूप में बताया है। वही जनता से प्रधानमंत्री के उत्तराधिकारी का भी नाम पूछा गया। 24 फ़ीसदी लोगों ने अमित शाह को प्रधानमंत्री मोदी का उत्तराधिकारी बताया है जबकि 23 फ़ीसदी लोग योगी आदित्यनाथ के पक्ष में गए हैं। 11 फ़ीसदी लोगों का मानना है कि नितिन गडकरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उत्तराधिकारी हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम में बोले PM मोदी, विषम काल में भी देश अपना मूल स्वभाव नहीं छोड़ता

देश के बड़े मुद्दे

देश के बड़े मुद्दे को लेकर जब लोगों से सवाल किया गया तो बेरोजगारी सबसे ऊपर रहा 24 फ़ीसदी लोगों ने कहा कि बेरोजगारी फिलहाल बड़ा मुद्दा है। इसके साथ ही 24 फ़ीसदी लोगों का मानना है कि महंगाई भी एक बहुत बड़ा मुद्दा है। 11 फ़ीसदी लोग कोरोना महामारी को बड़ा मुद्दा बता रहे हैं जबकि 8 फ़ीसदी लोग भ्रष्टाचार को मुद्दा मान रहे हैं। 6 फ़ीसदी लोग गरीबी को बड़ा मुद्दा बता रहे हैं तो 4 फ़ीसदी लोग किसानों की समस्याओं को लेकर सवाल कर रहे हैं।

मोदी सरकार की बड़ी सफलताओं को लेकर जब सवाल पूछा गया तो 22 फ़ीसदी ने लोगों ने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई को सफलता बताया जबकि 16 फ़ीसदी लोग राम मंदिर निर्माण को मोदी सरकार की बड़ी सफलता मान रहे हैं और 12 फ़ीसदी लोग अनुच्छेद 370 हटाए जाने को सफलता मान रहे हैं। मोदी सरकार की सबसे बड़ी नाकामी को लेकर सवाल पूछा गया तो 25 फ़ीसदी लोगों ने महंगाई को बताया, 14 फ़ीसदी लोगों ने बेरोजगारी को बताया जबकि 10 फ़ीसदी लोग किसान आंदोलन को बड़ी नाकामी बताया। देश के सबसे अच्छे सीएम की रेस में नवीन पटनायक का नाम सबसे आगे है। दूसरे नंबर पर ममता बनर्जी का नाम है और तीसरे नंबर पर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन का नाम है। 

इसे भी पढ़ें: युवाओं में कौशल और तकनीकी गुणवत्ता की कोई कमी नहीं है, सच यह है कि रोजगार के अवसरों की कमी है

चुनावी राज्य का हाल

उत्तर प्रदेश की परिस्थिति में देखें तो आज के हिसाब से भाजपा को 67 सीटें मिल सकती हैं। समाजवादी पार्टी को 10, कांग्रेस को एक और बीएसपी को 2 सीटें मिल सकती हैं। उत्तर प्रदेश में वोट प्रतिशत को देखे तो एनडीए के खाते में 46 फ़ीसदी, कांग्रेस को 10 फ़ीसदी, समाजवादी पार्टी गठबंधन को 31 फ़ीसदी और बीएसपी को 11 फ़ीसदी जाती दिखाई दे रही है। बात उत्तराखंड की करें तो यहां भाजपा को 51 फ़ीसदी वोट मिल सकता है जबकि कांग्रेस के खाते में 35 फ़ीसदी वोट जाता दिखाई दे रहा है। अन्य को 14 फ़ीसदी वोट मिलेगा। सीटों के लिहाज से देखें तो सभी की सभी 5 सीट भाजपा के खाते में आती दिखाई दे रही है। 

यूपी पर सवाल

उत्तर प्रदेश की 49 फ़ीसदी जनता ने योगी आदित्यनाथ के कामकाज पर बहुत अधिक संतुष्टि जताई जबकि 17 फ़ीसदी लोगों ने संतुष्टि जताई है। कुल मिलाकर देखें तो उत्तर प्रदेश में 66 फ़ीसदी जनता योगी सरकार के कामकाज से खुश है। 34 फ़ीसदी लोगों ने योगी आदित्यनाथ की कामकाज पर असंतुष्टि जताई है। यूपी में 35 फ़ीसदी लोगों ने इस बार चुनाव में बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा माना है। वहीं 23 फ़ीसदी लोग महंगाई, 10 फ़ीसदी लोग कोरोना महामारी, 7 फ़ीसदी लोग भ्रष्टाचार और 2 फ़ीसदी लोगों ने आर्थिक हालात को बड़ा मुद्दा माना है। उत्तर प्रदेश के 69 फ़ीसदी लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज से बहुत संतुष्टि जताई है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...