गांव-गांव तक टीकाकरण के लिए जरूरी है कि टीकों की खरीद खुद करे केंद्र : कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2021   10:13
गांव-गांव तक टीकाकरण के लिए जरूरी है कि टीकों की खरीद खुद करे केंद्र : कांग्रेस

कांग्रेस ने कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान में कथित तौर पर कमी आने को लेकर सोमवार को चिंता जताई और कहा कि हर गांव तक टीकाकरण की सुविधा पहुंचाने के लिए जरूरी है कि सीधे केंद्र टीकों की खरीद करे।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने कोरोना रोधी टीकाकरण अभियान में कथित तौर पर कमी आने को लेकर सोमवार को चिंता जताई और कहा कि हर गांव तक टीकाकरण की सुविधा पहुंचाने के लिए जरूरी है कि सीधे केंद्र टीकों की खरीद करे। मुख्य विपक्षी दल ने यह आरोप भी लगाया कि राज्यों को सीधे टीका खरीदने के लिए कहने से जुड़े केंद्र के कदम में ‘स्वार्थ’ है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘टीके की ख़रीद केंद्र करे और वितरण राज्य- तभी हर गांव तक वैक्सीन सुरक्षा पहुंच सकती है। ये सीधी-सी बात केंद्र सरकार को समझ क्यों नहीं आती?’’

इसे भी पढ़ें: Yaas Cyclone Update: ओडिशा और पश्चिम बंगाल में तूफान के ज्यादा गंभीर होने की आशंका

उन्होंने रोजाना होने वाले टीकाकरण की संख्या में कथित गिरावट का ग्राफ साझा करते हुए आरोप लगाया, ‘‘टीकाकरण महामारी पर नियंत्रण करने की कुंजी है, लेकिन ऐसा लगता है कि सरकार इसकी परवाह नहीं करती।’’ चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘‘क्या इसमें कोई हैरानी है कि फाइजर और मॉडर्ना ने राज्यों के साथ किसी तरह करार से इनकार करते हुए कहा कि वे सिर्फ केंद्र सरकार के साथ करार करेंगी?’’ उन्होंने दावा किया कि राज्यों को सीधे टीका खरीदने के लिए कहने का केंद्र का कदम ‘स्वार्थ वाला’ है। चिदंबरम ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘ दिल्ली और तेलंगाना के बाद महाराष्ट्र ने टीकों की कमी का हवाला देते हुए 18 से 44 आयु वर्ग के टीकाकरण को निलंबित कर दिया है। फिर भी, केंद्रीय गृह मंत्री या गृह मंत्रालय ने टीकों की किसी भी कमी से इनकार किया है।’’ पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने यह भी कहा, ‘‘खबरों के मुताबिक, ऐसा प्रतीत होता है कि भारत के दर्जनों जिलों में व्यावहारिक रूप से कोई टीकाकरण नहीं है, लेकिन जिलेवार आंकड़े प्रकाशित नहीं होते हैं।

इसे भी पढ़ें: प्रिंसेस ऑफ वेल्स डायना INTERVIEW कांड के बाद संपादकीय नीतियों की समीक्षा करेगा BBC

सरकार के इनकार और बेरुखी के शिकार वे लोग हैं जो अपने टीकाकरण की बारी का इंतजार कर रहे हैं।’’ गौरतलब है कि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को कहा कि फाइजर और मॉडर्ना ने कोरोना वायरस के टीके सीधे दिल्ली सरकार को बेचने से मना कर दिया है और इन कंपनियों ने कहा है कि वे केवल केंद्र से बात करेंगी। गत रविवार को पंजाब के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि अमेरिका की टीका निर्माता कंपनी मॉडर्ना ने राज्य सरकार को सीधे टीके देने से इनकार कर दिया है और कहा है कि वह केवल केंद्र सरकार से बात करेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।