एनआईए ने जम्मू-कश्मीर में छापेमारी कर आतंकवादियों के चार सहयोगियों के गिरफ्तार किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 21, 2021   07:53
एनआईए ने जम्मू-कश्मीर में छापेमारी कर आतंकवादियों के चार सहयोगियों के गिरफ्तार किया
प्रतिरूप फोटो

एनआईए अधिकारी ने कहा कि चारों आरोपी विभिन्न प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के सहयोगी / ओजीडब्ल्यू (ओवर ग्राउंड वर्कर) हैं और आतंकवादियों को साजो-सामान तथा सामग्री सहायता प्रदान करते रहे थे। उन्होंने कहा कि मामले की जांच जारी है।

नयी दिल्ली| राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर के चार जिलों में कई स्थानों पर तलाशी ली और आतंकवाद की साजिश के मामले में आतंकवादियों के चार कथित सहयोगियों को गिरफ्तार किया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

अधिकारी ने कहा कि जांच एजेंसी ने जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर, पुलवामा, कुलगाम और बारामूला जिलों में 11 स्थानों पर तलाशी ली। कुलगाम से सुहैल अहमद थोकर,श्रीनगर से कामरान अशरफ रेशी, रयद बशीर और हनान गुलजार डार को गिरफ्तार किया गया है।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में निवेश करना चाहते हैं भारतीय, वैश्विक निवेशक : गोयल

एनआईए अधिकारी ने कहा कि यह मामला लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी), जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम), हिज्ब-उल-मुजाहिदीन (एचएम) और अल बद्र समेत विभिन्न प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और द रेसिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) तथा पीपल अगेंस्ट फासिस्ट फोर्सेज (पीएएफएफ) जैसे उनके सहयोगी संगठनों के कैडरों द्वारा जम्मू-कश्मीर के प्रमुख शहरों में हिंसक आतंकवादी कृत्यों को अंजाम देने की साजिश से संबंधित है।

एनआईए) ने 10 अक्टूबर को मामला दर्ज करने के बाद से अब तक नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। अधिकारी ने कहा कि तलाशी में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की बरामद और जब्ती हुए हैं। जेहादी दस्तावेजों / पोस्टरों के अलावा अन्य सामान भी जब्त किया गया है।

एनआईए अधिकारी ने कहा कि चारों आरोपी विभिन्न प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के सहयोगी / ओजीडब्ल्यू (ओवर ग्राउंड वर्कर) हैं और आतंकवादियों को साजो-सामान तथा सामग्री सहायता प्रदान करते रहे थे। उन्होंने कहा कि मामले की जांच जारी है।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा की दुहाई देने वाली मोदी सरकार गुमशुदा: कांग्रेस





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।