प्रख्यात कलाकार, मूर्तिकार शेर सिंह कुक्कल का 86 वर्ष की उम्र में निधन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2020   13:54
प्रख्यात कलाकार, मूर्तिकार शेर सिंह कुक्कल का 86 वर्ष की उम्र में निधन

प्रख्यात कलाकार और मूर्तिकार शेर सिंह कुक्कल का बीमारी के चलते शनिवार को निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। सूत्रों ने बताया कि सातारा स्थित सैनिक स्कूल के पूर्व कला शिक्षक और कई पुरस्कार प्राप्त करने वाले कुक्कल का दिल्ली में निधन हो गया।

सातारा। प्रख्यात कलाकार और मूर्तिकार शेर सिंह कुक्कल का बीमारी के चलते शनिवार को निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। परिवार के सूत्रों ने इसकी जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि सातारा स्थित सैनिक स्कूल के पूर्व कला शिक्षक और कई पुरस्कार प्राप्त करने वाले कुक्कल का दिल्ली में निधन हो गया। बहुमुखी प्रतिभा के धनी और ललित कला में काफी अनुभव रखने वाले कुक्कल बुफ्फा जिले के रहने वाले थे जो अब पाकिस्तान में है। उन्होंने स्वतंत्र कलाकार के तौर पर काम किया, पेंटिंग की, मूर्तियां बनाई और फोटोग्राफी भी की। उन्होंने ग्रेफाइट पेंसिल, पेन और स्याही से पेंटिंग की।

इसे भी पढ़ें: पत्रकारिता ही नहीं बल्कि राष्ट्रवादी सोच के लिए भी आघात है अश्विनी कुमार चोपड़ा का निधन

उन्होंने लखनऊ के क्वींस कॉलेज से पेंटिंग में स्वर्ण पदक प्राप्त किया। इसके अलावा राजीव गांधी फाउंडेशन पुरस्कार प्राप्त कुक्कल फोटोग्राफी और पेंटिंग के लिए कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार जीते। उन्हें 2008-09 के दौरान केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय द्वारा विजुअल आर्ट फोटोग्राफी में सीनियर फोलोशिप दी गई। सैनिक स्कूल सतारा के पूर्व छात्र अनिल चौधरी ने बताया कि कुक्कल स्कूल के उत्कृष्ट कला शिक्षक थे।

इसे भी पढ़ें: Dwayne ''The Rock'' के फैंस के लिए बुरी खबर, मौत के बाद घर पर पसरा मातम

उन्होंने कहा, ‘‘कुक्कल सर का धन्यवाद कि उनकी वजह से मैं पेंटिंग समेत उनकी ज्यादातर पहलों में शामिल रहा। उनका धन्यवाद कि उनकी वजह से अब मैं भारत की आर्ट सोसायटी का सदस्य हूं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।