अब एमपी ऑनलाइन से बिजली बिल भुगतान पर नहीं लगेगा सुविधा शुल्क

अब एमपी ऑनलाइन से बिजली बिल भुगतान पर नहीं लगेगा सुविधा शुल्क

जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी की पहल पर एमपी ऑनलाइन द्वारा वॉलेट सिस्टम का क्रियान्वयन कर बिजली बिलों के भुगतान के लिए उसमें अग्रिम रूप से कंपनी के खाते में 60 लाख रुपये की राशि जमा की है।

भोपाल। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के कार्यक्षेत्र भोपाल, नर्मदापुरम, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के 16 जिलों के ऐसे उपभोक्ता जो एमपी ऑनलाईन के माध्यम से बिजली बिल भुगतान करते हैं, उनके लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें एमपी ऑनलाइन के माध्यम से बिजली बिल भुगतान करने पर सुविधा शुल्क नहीं देना होगा। अभी सुविधा शुल्क बिल की राशि के अनुसार पॉंच अथवा दस रुपये एमपी ऑनलाइन द्वारा लिया जाता था।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के मंदसौर का पलक्ष बना एशिया का सबसे कम उम्र का प्रोफेशनल ब्रांड एंबेसडर

जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी की पहल पर एमपी ऑनलाइन द्वारा वॉलेट सिस्टम का क्रियान्वयन कर बिजली बिलों के भुगतान के लिए उसमें अग्रिम रूप से कंपनी के खाते में 60 लाख रुपये की राशि जमा की है। इसी परिप्रेक्ष्य में निर्णय लिया गया है कि अब एमपी ऑनलाईन के पोर्टल एवं कियोस्क के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान करने पर किसी भी प्रकार का अतिरिक्त सुविधा शुल्क नहीं लिया जाएगा। 

 

इसे भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने कसा कम्प्यूटर बाबा पर तंज

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक विशेष गढ़पाले ने कंपनी कार्यक्षेत्र के सभी बिजली उपभोक्ताओं से अपील की है कि वे बिजली बिल भुगतान के लिये एक बेहतर विकल्प के तौर पर एमपी ऑनलाइन पोर्टल एवं कियोस्क के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान करें। गौरतलब है कि एमपी ऑनलाइन के कियोस्क हर गांव, कस्बों से लेकर बड़े-बड़े शहरों में मोहल्ले-मोहल्ले में स्थापित हैं। बिजली उपभोक्ता इन कियोस्क पर जाकर आसानी से बिना कोई अतिरिक्त शुल्क दिये बिजली बिल का भुगतान कर सकते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।