कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत, 122 नए मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   15:54
कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत, 122 नए मामले

बुधवार को राज्य में चौदह मरीजों की छुट्टी की जा चुकी है। कुल 122 नए मामलों में से 108 पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से, तीन तमिलनाडु से, और उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, केरल और दिल्ली से लौटे एक-एक व्यक्ति से जुड़ा हुआ है। जबकि इनमें से एक संयुक्त अरब अमीरात और एक नेपाल से लौटा है।

बेंगलुरु। कर्नाटक के यादगिरी निवासी महिला (69) की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हो गई और इसी के साथ राज्य में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 45 हो गई है। वहीं, संक्रमण के 122 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की कुल संख्या 2,405 पर पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को यह जानकारी दी। विभाग ने दिन में जारी अपने बुलेटिन में कहा कि संक्रमण से 45 लोगों की मौत हो गई और 762 लोग उपचार के बाद संक्रमणमुक्त हो गए है। राज्य में 1,596 लोगों का उपचार चल रहा है।

इसमें कहा गया है कि महिला महाराष्ट्र से लौटी थी और 20 मई को यादगिरी के एक अस्पताल में जब उन्हें लाया गया तब उनकी मौत हो चुकी थी।बाद में उनके नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। बुधवार को राज्य में चौदह मरीजों की छुट्टी की जा चुकी है। कुल 122 नए मामलों में से 108 पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से, तीन तमिलनाडु से, और उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, केरल और दिल्ली से लौटे एक-एक व्यक्ति से जुड़ा हुआ है। जबकि इनमें से एक संयुक्त अरब अमीरात और एक नेपाल से लौटा है। 

इसे भी पढ़ें: कनार्टक में मंदिरों के साथ एक जून से खुल सकते हैं मस्जिद और गिरजाघर: येदियुरप्पा

संक्रमण के शेष चार मामले संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों से जुड़े हैं। इन नए मामलों में कलबुर्गी में 28, यादगिरी में 16, हासन में 15, बीदर में 13, दक्षिण कन्नड़ में 11, उडुपी में नौ, बेंगलुरु शहर में छह , उत्तर कन्नड़ और रायचूर में पांच-पांच, बेलगावी में चार, चिकमंगलुरु में तीन, बेंगलुरु ग्रामीण और विजयापुर में दो-दो, और बेल्लारी, मंड्या और तुमकुर में एक-एक मामले शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।