TMC और AAP गैर भाजपाई वोट में लगा रही हैं सेंध, चिदंबरम बोले- सिर्फ कांग्रेस ही भाजपा को हरा सकती है

P Chidambaram
कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा, ‘‘ कांग्रेस के 99 फीसदी कार्यकर्ता कांग्रेस के साथ हैं। मैं इससे अप्रसन्न नहीं हूं कि रेजिनाल्डो लौरेंको तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। तृणमूल कांग्रेस ने हारने वाले उम्मीदवार को हमारे हाथ से ले लिया है और अगर वह उन्हें चुनाव में खड़ा करती है तो वह हारने वाले उम्मीदवार साबित होंगे।’’

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने रविवार को कहा कि गोवा में तृणमूल कांग्रेस और आम आदमी पार्टी गैर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) वोटों में सेंध लगा रही हैं और भाजपा को केवल कांग्रेस ही हरा सकती है। गोवा विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ चुनाव पर्यवेक्षक चिदंबरम ने यह भी कहा कि पार्टी और मतदाताओं के प्रति निष्ठा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन की पहली कसौटी है। साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि निर्वाचित होने के पश्चात ऐसे उम्मीदवार पार्टी और मतदाताओं दोनों के प्रति निष्ठावान रहेंगे। चिदंबरम का यह बयान ऐसे वक्त में आया है जब गोवा प्रदेश कांग्रेस समिति के कार्यवाहक अध्यक्ष एलेक्सो रेजिनाल्डो लौरेंको ने राज्य विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। गोवा की 40 सदस्यीय विधानसभा में पार्टी के सदस्यों की संख्या दो पर सिमट गई है। लौरेंको तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। इस माह की शुरुआत में पूर्व मुख्यमंत्रियों लुइजिन्हो फलेरियो और रवि नाइक ने भी कांग्रेस की सदस्यता छोड़ दी। फलेरियो तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए थे। 

इसे भी पढ़ें: गोवा चुनाव से पहले, कांग्रेस ने स्थानीय लोगों के भूमि अधिकारों के लिए कानून का वादा किया 

चिदंबरम ने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि केवल कांग्रेस ही ऐसी पार्टी है जिसकी गोवा में सभी 40 विधानसभा क्षेत्रों में गहरी जड़े हैं और जनता जानती है कि केवल कांग्रेस ही वह पार्टी है जिसमें भाजपा के ‘‘धनबल और राज्य सत्ता के दुरुपयोग’’ के बावजूद पार्टी को हराने का दम है। कांग्रेस से हाल में हुए इस्तीफों और उनमें से कुछ के तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने तथा ममता बनर्जी की अगुवाई वाली तृणमूल कांग्रेस के राज्य में आक्रामक रणनीति अपनाने के बारे में पूछे जाने पर चिदंबरम ने कहा कि किसी पार्टी की रणनीति या उसकी मंशा पर वह टिप्पणी नहीं करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस के केवल दो विधायक ही तृणमूल में शामिल हुए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ कांग्रेस के 99 फीसदी कार्यकर्ता कांग्रेस के साथ हैं। मैं इससे अप्रसन्न नहीं हूं कि रेजिनाल्डो लौरेंको तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। तृणमूल कांग्रेस ने हारने वाले उम्मीदवार को हमारे हाथ से ले लिया है और अगर वह उन्हें चुनाव में खड़ा करती है तो वह हारने वाले उम्मीदवार साबित होंगे।’

कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि कुर्टोरिम विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस कार्यकर्ता और जनता ने लौरेंको को हराने का प्रण लिया है। यह पूछे जाने पर कि क्या उनका मानना है कि तृणमूल भाजपा की मदद कर रही है और आम आदमी पार्टी (आप) के साथ ममता बनर्जी की पार्टी भाजपा की ‘बी-टीम’ के रूप में काम कर रही है, चिदंबरम ने कहा, ‘‘मैं किसी भी पार्टी के इरादों पर टिप्पणी नहीं करता। 2022 में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी लड़ाई में कांग्रेस स्पष्ट तौर पर विजयी होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल और आप गैर भाजपाई वोटों में सेंध लगा रही हैं। इससे भाजपा को फायदा होगा अथवा नहीं, मैं नहीं कह सकता।’’ चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम की घोषणा संबंधी प्रश्न पर चिदंबरम ने कहा कि वह कह चुके हैं कि सभी कांग्रेस उम्मीदवारों के नामों की घोषणा होने के बाद उनसे विचार विमर्श करके ‘‘इस बात पर निर्णय लेंगे कि चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम की घोषणा करना उचित होगा अथवा नहीं।’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि यह विकल्प खुला है। चुनाव की तैयारियों और गोवा में कांग्रेस की स्थिति के बारे में उन्होंने कहा कि कांग्रेस की हालत 2017 और 2019 में उस वक्त खराब हुई जब उसके निर्वाचित विधायक भाजपा में शामिल हो गए। 

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 टीके की बूस्टर खुराक को अनुमति देने का समय आ गया है : चिदंबरम

चिदंबरम ने कहा कि गोवा में भाजपा सरकार ‘‘दलबदल करने वालों की, दलबदलुओं की और दलबदलुओं के लिए’’ सरकार है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने 10 साल तक शासन किया और गोवा को खासकर इसकी अर्थव्यवस्था, पर्यावरण और लोकाचार को ‘बर्बाद’ कर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘लोगों की परिवर्तन की प्रबल इच्छा है। गोवा के सभी 40 निर्वाचन क्षेत्रों में गहरी पैठ जमाने वाली एकमात्र पार्टी कांग्रेस है। लोग जानते हैं कि केवल कांग्रेस ही भाजपा को हराने का माद्दा रखती है, भले ही सत्तारूढ़ पार्टी धनबल और राज्य की सत्ता का दुरुपयोग करे। हमें 2022 के चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद है।’’ चुनाव के बाद पार्टी के निर्वाचित नेताओं के पलायन की आशंका के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ऐसा कुछ नहीं होगा। हमने संभावित उम्मीदवारों के नाम सुझाने की जिम्मेदारी ब्लॉक कांग्रेस समितियों और ब्लॉक कार्यकर्ताओं को दी है। हमने उन्हें निष्ठा, अडिग, कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए स्वीकार्यता और मतदाताओं के बीच जीत की क्षमता के आधार पर नामों की सिफारिश करने को कहा है।

चिदंबरम ने कहा कि पार्टी और मतदाताओं के प्रति निष्ठा पहली कसौटी है। गठबंधन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा,‘‘ हमने देखा है कि, गोवा में राजनीतिक दलों के बीच चुनाव तक और चुनावों के बाद भी एक दूसरे से चर्चा करने का चलन है।’’ उन्होंने कहा कि इस पर कोई निर्णय पार्टी नेतृत्व लेगा। गोवा में 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 17 सीटों पर जीत दर्ज की थी और सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। लेकिन 13 सीट पाने वाली भाजपा कुछ क्षेत्रीय दलों के विधायकों और निर्दलीय विधायकों के साथ गठजोड़ कर सत्ता में आ गई। कांग्रेस ने पिछले हफ्ते गोवा में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए आठ उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत को मडगांव निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़