ब्लैक फंगस: पुणे के ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 से उबरे लोगों की जांच के आदेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 24, 2021   14:46
ब्लैक फंगस: पुणे के ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 से उबरे लोगों की जांच के आदेश

पुणे जिला प्रशासन ने ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के बढ़ते मामलों के मद्देनजर स्वास्थ्य अधिकारियों को ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 से उबरे लोगों की जांच करने का निर्देश दिया है।

पुणे। पुणे जिला प्रशासन ने ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के बढ़ते मामलों के मद्देनजर स्वास्थ्य अधिकारियों को ग्रामीण इलाकों में कोविड-19 से उबरे लोगों की जांच करने का निर्देश दिया है। रविवार को जारी किए आदेशानुसार, जिलाधिकारी राजेश देशमुख ने ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य विभागों को 15 अप्रैल के बाद कोविड-19 से उबरे लोगों की सूची बनाने और 24 से 27 मई के बीच ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के संभावित मामलों की जांच करने का निर्देश दिया है। ‘म्यूकरमाइकोसिस’ को ‘ब्लैक फंगस’ भी कहा जाता है और यह एक दुर्लभ गंभीर संक्रमण है, जो कोविड-19 के कई मरीजों में पाया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 महामारी से जूझ रहे लोगों की मदद करने में जुटे पंड्या ब्रदर्स

महाराष्ट्र में पुणे जिले में अभी तक ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के 300 से अधिक मामले सामने आए हैं। आदेश के अनुसार, ‘‘ जांच के दौरान अगर ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के संभावित मामले सामने आए, तो उनकी विशेषज्ञों द्वारा जांच की जाए, बीमारी की पुष्टि होने पर मरीज को आवश्यक दवाई दी जाए और उपचार/सर्जरी के लिए आगे भेजा जाए।’’ उसके अनुसार, जिन तहसील में केविड-19 से उबरे मरीजों की संख्या अधिक है, वहां जांच के लिए अतिरिक्त चिकित्सकों की तैनाती की जाएा।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में आए भारतीय उच्चायोग के 12 अधिकारियों को परिवार सहित Quarantine रहने का आदेश

जिला प्रशासन ने ‘म्यूकरमाइकोसिस’ के उपचार और उसकी दवाई के सुचारू एवं समान वितरण के लिए एक नियंत्रण कक्ष पहले ही स्थापित कर दिया है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने गत बृहस्पतिवार को बताया था कि राज्य में ‘म्यूकरमाइकोसिस’ से अभी तक 90 लोगों की मौत हुई है और फिलहाल चिंता का प्रमुख विषय यही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।