अरुणाचल प्रदेश में लापता 19 मजदूरों में से अभी तक 10 का बचाया गया

missing
ANI
अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में एक सड़क निर्माण स्थल से लापता हुए 19 मजदूरों में से अभी तक 10 मजदूरों का बचाया जा चुका है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी।

ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश के कुरुंग कुमे जिले में एक सड़क निर्माण स्थल से लापता हुए 19 मजदूरों में से अभी तक 10 मजदूरों का बचाया जा चुका है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। कुरुंग कुमे के उपायुक्त बेंगिया निघे ने बताया कि दो मजूदरों को रविवार को जिले के एक जंगल से बचाया गया, उनकी हालत नाजुक है। दोनों को पहले प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया है।

इसे भी पढ़ें: पीएम किसान योजना नहीं ये PM किसान उत्पीड़न योजना है, राहुल गांधी ने केन्द्र पर साधा निशाना

बाद में उन्हें नाहरलगुन में ‘टोमो रीबा इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंस’ (टीआरआईएचएमएस) या कोलोरिआंग के जिला अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है। उन्होंन कहा,‘‘ खराब मौसम के कारण रविवार को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर बचाव अभियान नहीं चला पाए थे। मौसम की स्थिति को देखते हुए सोमवार को वे वापस तलाश अभियान में जुट सकते हैं।’’ निघे ने कहा, ‘‘ सभी लापता लोगों के मिलने तक जमीनपर खोज एवं बचाव अभियान जारी रहेगा।’’ गौरतलब है कि असम के रहने वाले ये मजदूर भारत-चीन सीमा पर एक सड़क निर्माण स्थल से पांच जुलाई को उस समय भाग गए थे, जब उन्हें ईद के लिए घर जाने की अनुमति नहीं दी गयी थी। वे जंगल के रास्ते पैदल ही अपने घरों की ओर निकल पड़े थे और इसके बाद से ही उनका कुछ पता नहीं चल पा रहा था।

इसे भी पढ़ें: सपने में दिखती थी अपनी धधकती कब्र, सना खान ने फिल्म इंडस्ट्री छोड़ हिजाब पहनने की वजह बताई

आठ और 11 लोगों के दो समूह निर्माण स्थल से रवाना हुए थे। अधिकारियों ने बताया कि एक मजदूर शनिवार शाम को मिला था, जबकि सात अन्य मजदूरों को ग्रामीणों ने शुक्रवार रात को दामिन क्षेत्र में हुरी तथा फुरक के बीच सड़क पर बदहवास हालत में पाया था। निघे ने बताया कि बचाए गए लोगों के बयानों के अनुसार दो मजदूरों की फुरक नदी में गिरने से मौत हो गई, जबकि एक ने रास्ते में दम तोड़ दिया। उन्होंने कहा, ‘‘ हालांकि बचाव दलों को अभी तक कोई शव बरामद नहीं हुआ है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़