जम्मू-कश्मीर के कठुआ और राजौरी में पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, LoC पर गांवों व चौकियों को बनाया निशाना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2020   17:06
जम्मू-कश्मीर के कठुआ और राजौरी में पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, LoC पर गांवों व चौकियों को बनाया निशाना

एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया, ‘‘ रविवार सुबह 11 बजकर 15 मिनट पर पाकिस्तान ने राजौरी के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर बिना किसी उकसावे के छोटे हथियारों से गोलीबारी शुरू की और मोर्टार के गोले दागकर संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया।

जम्मू। पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ और राजौरी जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अग्रिम चौकियों और गांवों को निशाना बनाया। भारतीय सैनिकों ने भी इसका माकूल जवाब दिया है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। हालांकि संघर्षविराम समझौते के उल्लंघन की वजह से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। लेकिन इससे एक दिन पहले पाकिस्तानी सैनिकों की ओर से राजौरी और पुंछ जिले में गोलीबारी की अलग-अलग घटनाओं में सेना का एक जवान शहीद हो गया था और दो महिलाओं समेत तीन अन्य लोग घायल हो गए थे। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाकर्मियों को मिली बड़ी कामयाबी, जिंदा पकड़े गए जैश के दो आतंकी

एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया, ‘‘ रविवार सुबह 11 बजकर 15 मिनट पर पाकिस्तान ने राजौरी के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर बिना किसी उकसावे के छोटे हथियारों से गोलीबारी शुरू की और मोर्टार के गोले दागकर संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन किया।’’ वहीं, संघर्ष विराम उल्लंघन के एक अन्य मामले की जानकारी देते हुए अधिकारियों ने बताया कि शनिवार रात करीब नौ बजे सतपाल, मनयारी, करोल कृष्णा और गुरनाम सीमा चौकियों पर सीमापार से गोलीबारी शुरू हुई। हालांकि इसका सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने माकूल जवाब दिया। उन्होंने बताया कि दोनों ही तरफ से गोलीबारी रविवार तड़के तीन बजकर 45 मिनट पर भी जारी थी। अभी तक भारतीय पक्ष से किसी के हताहत होने या क्षति की खबर नहीं है। इस साल अब तक पाकिस्तान ने 4000 बार संघर्ष विराम समझौते का उल्लंघन किया है। 2019 में यह संख्या 3289 थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...