कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के साथ भाजपा की मिली भगत है: मोइली

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 13 2019 6:26PM
कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के साथ भाजपा की मिली भगत है: मोइली
Image Source: Google

मोइली ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार में राफेल सौदे जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर देश को गुमराह किया गया और अंधेरे में रखा गया। कांग्रेस नेता ने पीटीआई से कहा, ‘‘पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर मुद्दे के द्विपक्षीय विवाद पर बातचीत के लिए पूर्वशर्त के रूप में नरेंद्र मोदी का खुलेआम समर्थन किया है जिससे स्पष्ट दिखाई देता है कि भाजपा और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बीच अंदरखाने मिलीभगत है।’’

चिकबल्लापुर। वरिष्ठ कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने दावा किया कि कश्मीर मुद्दे पर भाजपा की पाकिस्तान के साथ अंदर खाने मिलीभगत है और पार्टी को बताना चाहिए इस चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इमरान खान के समर्थन का क्या आधार है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने मोदी पर ‘हिटलर जैसा रवैया’ रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश में नफरत का माहौल है और सभी संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो वह पिछले पांच साल के दौरान भाजपा सरकार के कामकाज की जांच शुरू कराएगी। 

इसे भी पढ़ें: भारत की विश्वपटल पर तेजी से तरक्की के कारण विपक्ष मुझसे नाराज है: मोदी

मोइली ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार में राफेल सौदे जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर देश को गुमराह किया गया और अंधेरे में रखा गया। कांग्रेस नेता ने पीटीआई से कहा, ‘‘पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर मुद्दे के द्विपक्षीय विवाद पर बातचीत के लिए पूर्वशर्त के रूप में नरेंद्र मोदी का खुलेआम समर्थन किया है जिससे स्पष्ट दिखाई देता है कि भाजपा और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बीच अंदरखाने मिलीभगत है।’’
उन्होंने कहा कि खान का समर्थन और यह सुझाव कि मोदी दोनों देशों के बीच बेहतर संबंध बनाएंगे, यह किसी गुप्त समझ का संकेत है। संभवत: कश्मीर पर भारत के हितों से समझौता किया जा रहा है।


भाजपा के शासन में हमेशा युद्ध जैसे हालात बने होने की बात करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘जब भी भाजपा सत्ता में आती है, भारत और पाकिस्तान के बीच दुश्मनी बढ़ जाती है। इसमें वाजपेयी सरकार के समय करगिल संघर्ष या भारतीय संसद पर हमला तो मौजूदा सरकार में बालाकोट एवं पुलवामा हमले शामिल हैं।’’ मोदी के 56 इंच के सीने के दावे पर चुटकी लेते हुए मोइली ने कहा, ‘‘अगर उनके पास है भी तो दिखाने की जरूरत कहां है? उन्हें दरअसल प्यार की राजनीति से सरोकार ही नहीं है और इससे देश का राजनीतिक माहौल खराब हो गया है।’’
उन्होंने कहा, ‘‘हम भाजपा के शासनकाल में किये गये सभी कार्यों की जांच कराएंगे, जिनमें नोटबंदी, बालाकोट हमला और खुफिया जानकारी के बावजूद बस में सीआरपीएफ जवानों को ले जाना शामिल है।’’ इन लोकसभा चुनावों में कर्नाटक में कांग्रेस की संभावनाओं पर मोइली ने कहा कि पार्टी जेडीएस के साथ गठबंधन में राज्य की 28 में से कम से कम 21 सीटें जीतेगी। ऐसा इसलिए कि मोदी लहर तेजी से कमजोर हो रही है। उनका रवैया हिटलर जैसा होता जा रहा है और उन्हें किसी भी पद पर बैठाना देश के लिए खतरनाक होगा।
उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस और भाजपा को मिलने वाली संभावित सीटों की संख्या का कोई आकलन करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार बनेगी जिसमें चुनाव के पहले और चुनाव के बाद के गठबंधनों के आधार पर क्षेत्रीय दलों की भूमिका हो सकती है। मोइली ने भाजपा पर नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह बंद होना चाहिए और प्रेम की राजनीति का रास्ता साफ होना चाहिए। यह केवल राहुल गांधी शुरू कर सकते हैं।
 भाषावैभव शाहिद

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप