जीरो कोरोना केस या वैक्सीन लगने तक बच्चे को स्कूल नहीं भेजना चाहते पैरंट्स!

जीरो कोरोना केस या वैक्सीन लगने तक बच्चे को स्कूल नहीं भेजना चाहते पैरंट्स!

माना जा रहा है कि आने वाली कोरोना की तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को ही प्रभावित कर सकता है। इसको देखते हुए सीरम भी बच्चो के कोरोना वैक्सीन के लिए नोवावैक्स टीके का जल्द ही ट्रायल शुरू करने वाली है।

देश में कोरोना के मामलों में तेजी से गिरावट आई है जिसको देखते हुए सरकार ने भी कुछ ढील के साथ दुकानों और कार्यालय को खोलने के निर्देश दे दिए है। वहीं स्कूल खुलने चाहिए या नहीं इसको लेकर सरकार अभी कोई बड़ा फैसला नहीं लेना चाहती है वहीं माता-पिता भी अभी अपने बच्चों को स्कूल भेजने के नाम से कतरा रही है। आपको बता दें कि सरकार बच्चो के कोरोना वैक्सीन को लेकर ट्रायल भी शुरू कर चुकी है। भारत का भारत बायोटेक कोवैक्सीन और नाक से लेने वाली सिंगल डोज वैक्सीन का बच्चों पर ट्रायल किया जा रहा है। भारत बायोटेक के साथ-साथ जायडस भी 12 से 18 साल के बच्चों के लिए वैक्सीन का ट्रायल शुरू कर रही है। माना जा रहा है कि आने वाली कोरोना की तीसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों को ही प्रभावित कर सकता है। इसको देखते हुए सीरम भी बच्चो के कोरोना वैक्सीन के लिए नोवावैक्स टीके का जल्द ही ट्रायल  शुरू करने वाली है। 

इसे भी पढ़ें: सलमान खुर्शीद ने कहा- यूपी में प्रियंका कांग्रेस की कप्तान, हम भाजपा के मुख्य प्रतिद्वंदी के रूप में उभरेंगे

क्या कहता है लोकल सर्कल्स का सर्वे?

लोकल सर्कल्स सर्वे के मुताबिक, अगर कोरोना से हालात काबू भी पा लिया जाता है तब भी कई पैरंट्स अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंगे। स्कूल खोलने को लेकर मार्च 2020 से अब तक 6 सर्वे में 69 फीसदी पैरंट्स अपने बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार थे लेकिन अब इस साल कोरोना की दूसरी लहर से बिगड़े हालात को देखते हुए अब केवल  20 फीसदी पैरंट्स  ऐसे है जो अपने बच्चों को स्कूल भेजना चाहते है वहीं 65 फीसदी पैरंट्स का कहना है कि, वैक्सीन जब तक उपलब्ध नहीं हो जाती और बच्चो को टीका लग नहीं जाता तब तक स्कूल नहीं भेजेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।