पिता मनोहर पर्रिकर के नक्शेकदम पर चलना चाहते हैं उत्पल, पणजी से चुनाव लड़ने के लिए भाजपा से कर रहे बात

पिता मनोहर पर्रिकर के नक्शेकदम पर चलना चाहते हैं उत्पल, पणजी से चुनाव लड़ने के लिए भाजपा से कर रहे बात

गोवा के दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बड़े बेटे उत्पल पर्रिकर ने कहा कि मैंने पहले ही पार्टी को पणजी से (चुनाव) लड़ने की अपनी इच्छा के बारे में बता दिया है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि पार्टी मुझे टिकट देगी। मैं उनसे बातचीत कर रहा हूं।

पणजी। गोवा के दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बड़े बेटे उत्पल पर्रिकर अपने पिता के नक्शेकदम पर चलना चाहते हैं और अपने पिता के ही तरह गोवा की सेवा करना चाहते हैं। उत्पल पर्रिकर पणजी से अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत करना चाहते हैं और उन्होंने इसकी इच्छा भी जाहिर की है। 

इसे भी पढ़ें: गोवा दौरे पर अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस और भाजपा पर साधा निशाना, कहा- दोनों मिल बैठकर खाते हैं मलाई 

उत्पल ने कहा कि मैंने पहले ही पार्टी को पणजी से (चुनाव) लड़ने की अपनी इच्छा के बारे में बता दिया है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि पार्टी मुझे टिकट देगी। मैं उनसे बातचीत कर रहा हूं। मैं लगातार भाजपा के संपर्क में हूं। पणजी निर्वाचन क्षेत्र का पूर्व में कई बार मनोहर पर्रिकर प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

क्या निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे उत्पल ?

ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि अगर भाजपा ने उत्पल को टिकट नहीं दिया तो वह क्या करेंगे ? इस पर उन्होंने कहा कि वह पणजी विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। आपको बता दें कि उत्पल हमेशा से ही अपने पिता के नक्शेकदम पर चलना चाहते थे। इसीलिए उन्होंने अपने पिता की ही तरह इंजीनियरिंग की लेकिन उन्हें इसके लिए अमेरिका जाना पड़ा।

इसी दौरान उन्हें अपनी जीवनसंगनी मिल गई। अमेरिका से डिग्री हासिल करने के बाद उत्पल की घरवापसी हुई और उन्होंने राजनीति में आने के स्थान पर अपना कारोबार शुरू किया। लेकिन पिता के असमय अलविदा कहने के बाद अब उन्होंने पिता की ही तरह जनता की सेवा करने का मन बनाया है। 

इसे भी पढ़ें: गोवा में राहुल का अनोखा अंदाज, बाइक पर होकर सवार पहुंचे मैदान, फुटबॉल को मारी किक 

पिता के करीब थे उत्पल

पूर्व रक्षा मंत्री के अंतिम समय में उत्पल उनके करीब रहे। उनके साथ मंच तक साझा करने लगे। पिता की लंबी उम्र की प्रार्थना करते हुए भी दिखाई दिए। हालांकि उनकी कोई भी राजनैतिक महत्वाकाक्षाएं नहीं थी और अभी भी नहीं दिखाई देती हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।