जी-20 सम्मेलन में भाग लेने जापान पहुंचे PM, स्वागत में लगे मोदी-मोदी के नारे

pm-arrives-in-japan-to-attend-g-20-conference
अंकित सिंह । Jun 27, 2019 10:17AM
रवानगी से पहले अपने बयान में उन्होंने कहा कि महिला सशक्तीकरण, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और आतंकवाद जैसी चुनौतियों के समाधान के लिए आम प्रयास जैसे मुद्दे उनके एजेंडे में शीर्ष पर होंगे।

नयी दिल्ली। जी-20 सम्मेलन में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जापान के ओसाका पहुंच गए हैं। यहां पहुंचते ही भारतीयों ने मोदी मोदी के नारे से पीएम का स्वागत किया। अपने दूसरे कार्यकाल में पीएम मोदी का यह पहला बड़ा कूटनीतिक दौरा है। जापान के ओसाका में गुरुवार से शुरू हो रहे जी 20 सम्मेलन में  दुनिया के 20 सबसे शक्तिशाली देश भाग ले रहे हैं। मोदी अपने इस दौरे की शुरूआत जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से मुलाकात के साथ करेंगे।  इससे पहले मोदी ने कहा कि वह जी-20 में शिखर सम्मेलन में बहुपक्षवाद में सुधार के लिए भारत के मजबूत समर्थन पर जोर देंगे, जो नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण है। प्रधानमंत्री इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए जापान के ओसाका रवाना हुए। 

रवानगी से पहले अपने बयान में उन्होंने कहा कि महिला सशक्तीकरण, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और आतंकवाद जैसी चुनौतियों के समाधान के लिए आम प्रयास जैसे मुद्दे उनके एजेंडे में शीर्ष पर होंगे। मोदी ने कहा, ‘‘शिखर सम्मेलन बहुपक्षवाद में सुधार के लिए हमारे मजबूत समर्थन को दोहराने और सुदृढ़ करने का एक महत्वपूर्ण अवसर प्रदान करेगा, जो आज की तेजी से बदलती दुनिया में नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण है।’’ उन्होंने कहा कि सम्मेलन पिछले पांच वर्षों में भारत के विकास के अनुभव को साझा करने के लिए भी एक मंच होगा, जिसने भारत के लोगों को प्रगति और स्थिरता के मार्ग पर जारी रखने के लिए एक जबरदस्त जनादेश का आधार प्रदान किया।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या राममंदिर को लेकर स्वामी का दावा, इसी वर्ष शुरू होगा मंदिर का निर्माण

उन्होंने कहा कि दो दिवसीय ओसाका शिखर सम्मेलन 2022 में जी -20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी के वास्ते भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा, जब हम अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ वर्ष में एक नए भारत की शुरूआत करेंगे। मोदी ने कहा कि सम्मेलन के इतर उन्हें द्विपक्षीय और वैश्विक महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर प्रमुख साझेदार देशों के नेताओं के साथ बैठक की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं सम्मेलन के इतर रूस, भारत और चीन (आरआईसी) की अनौपचारिक बैठक की मेजबानी करने के लिए भी उत्सुक हूं, और मैं ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) और जेएआई (जापान,अमेरिका और भारत) नेताओं की अगली अनौपचारिक बैठकों में भी भाग लूंगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़