PM मोदी ने UN से पूछा, कब तब भारत को निर्णय प्रक्रिया ढांचे से अलग रखा जाएगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2020   22:18
  • Like
PM मोदी ने UN से पूछा, कब तब भारत को निर्णय प्रक्रिया ढांचे से अलग रखा जाएगा
Image Source: Google

मोदी ने इस अवसर पर कहा कि भारत ने दो अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पहल की थी। इतना ही नहीं, आपदा और अंतरराष्ट्रीय सोलर अलायंस से जुड़े प्रयासों की पहल भी भारतने ही की।

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की आवाज बुलंद करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सवाल उठाया कि 130 करोड़ की आबादी वाले, दुनिया के इस सबसे बड़े लोकतंत्र को सर्वोच्च वैश्विक संस्था के निर्णय प्रक्रिया ढांचे से आखिर कब तक अलग रखा जाएगा? संयुक्त राष्ट्र में सुधार की भारत की मांग को पुरजोर तरीके से उठाते हुए मोदी ने इसे ‘‘समय की मांग’’ बताया और कहा कि इस वैश्विक मंच के माध्यम से भारत ने हमेशा ‘‘विश्व कल्याण’’ को प्राथमिकता दी है और अब वह अपने योगदान के मद्देनजर, इसमें अपनी व्यापक भूमिका देख रहा है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में संतुलन और उसका सशक्तीकरण विश्व कल्याण के लिए अनिवार्य है। प्रधानमंत्री मोदी ने ऐसे वक्त में संयुक्त राष्ट्र में सुधार और सुरक्षा परिषद के बहुप्रतीक्षित विस्तार की पुरजोर मांग उठाई है जब भारत अगले वर्ष जनवरी से 15-सदस्यीय सुरक्षा परिषद के अस्थाई सदस्य के तौर पर भी अपना दायित्व निभाने जा रहा है। इस ऐतिहासिक अवसर पर देश के 130 करोड़ लोगों की भावनाएं प्रकट हुए मोदी ने कहा कि विश्व कल्याण की भावना के साथ संयुक्त राष्ट्र का जिस स्वरुप में गठन हुआ, वह तत्कालीन समय के हिसाब से ही था जबकि आज दुनिया एक अलग दौर में है। उन्होंने कहा, ‘‘21वीं सदी में हमारे वर्तमान की, हमारे भविष्य की आवश्यकताएं और चुनौतियां कुछ और हैं। इसलिए पूरे विश्व समुदाय के सामने एक बहुत बड़ा सवाल है कि जिस संस्था का गठन तब की परिस्थितियों में हुआ था, उसका स्वरूप क्या आज भी प्रासंगिक है ?’

>प्रधानमंत्री ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि सभी बदल जाएं और ‘‘हम ना बदलें’’ तो बदलाव लाने की ताकत भी कमजोर हो जाती है। उन्होंने कहा कि पिछले 75 वर्षों में संयुक्त राष्ट्र की उपलब्धियों का मूल्यांकन किया जाए तो अनेक उपलब्धियां दिखाई देती हैं लेकिन इसके साथ ही अनेक ऐसे उदाहरण हैं जो संयुक्त राष्ट्र के सामने गंभीर आत्ममंथन की आवश्यकता खड़ी करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रियाओं में बदलाव, व्यवस्थाओं में बदलाव, स्वरूप में बदलाव, आज समय की मांग है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारत के लोग, संयुक्त राष्ट्र के सुधारों को लेकर जो प्रक्रिया चल रही है, उसके पूरा होने का लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। भारत के लोग चिंतित हैं कि क्या ये प्रक्रिया कभी अपने निर्णायक मोड़ तक पहुंच पाएगी? आखिर कब तक भारत को संयुक्त राष्ट्र के, निर्णय प्रक्रिया के ढांचे से अलग रखा जाएगा?’’ मोदी ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। एक ऐसा देश, जहां विश्व की 18 प्रतिशत से ज्यादा जनसंख्या रहती है, जहां सैकड़ों भाषाएं हैं, अनेकों पंथ हैं, अनेकों विचारधारा हैं। उन्होंने कहा, ‘‘जिस देश ने वर्षों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था का नेतृत्व करने और वर्षों की गुलामी, दोनों को जिया है, जिस देश में हो रहे परिवर्तनों का प्रभाव दुनिया के बहुत बड़े हिस्से पर पड़ता है, उस देश को आखिर कब तक इंतजार करना पड़ेगा?’’ मालूम हो कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की मांग को लेकर भारत लंबे समय से आवाज उठा रहा है। सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और रूस भारत की स्थायी सदस्यता के पक्ष में हैं। 

इसे भी पढ़ें: MP में कांग्रेस उपचुनाव जीती, तो दोबारा परदे के पीछे CM बन जाएंगे दिग्विजय: सिंधिया

मोदी ने कहा, ‘‘जब हम मजबूत थे तो दुनिया को कभी सताया नहीं, जब हम मजबूर थे तो दुनिया पर कभी बोझ नहीं बने।’’ भारत की ‘‘वसुधैव कुटुम्बकम’’ की भावना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह हमारी संस्कृति, संस्कार और सोच का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि भारत वह देश है जिसने शांति की स्थापना के लिए लगभग 50 शांति मिशन में अपने जांबाज सैनिक भेजे, जिसने शांति की स्थापना में सबसे ज्यादा अपने वीर सैनिकों को खोया है। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे में आज प्रत्येक भारतवासी, संयुक्त राष्ट्र में अपने योगदान को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र में अपनी व्यापक भूमिका भी देख रहा है।’’ आतंकवाद के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की ओर से उठाए गए कदमों पर भी उन्होंने सवाल खड़े किए और कहा कि बेशक तीसरा विश्व युद्ध नहीं हुआ लेकिन आंतकवाद की आग ने पूरी दुनिया को झुलसाया और आतंकी हमलों ने पूरी दुनिया को थर्रा कर रख दिया। यहां तक कि खून की नदियां बहती रहीं। उन्होंने पूछा, ‘‘उस समय और आज भी संयुक्त राष्ट्र के प्रयास क्या पर्याप्त थे?’’ कोविड-19 महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका पर भी सवाल खड़े करते हुए मोदी ने वैश्विक समुदाय को आश्वस्त किया कि भारत की टीका उत्पादन और टीका वितरण की क्षमता पूरी मानवता को इस संकट से बाहर निकालने के लिए काम आएगी। उन्होंने पूछा, ‘‘पिछले 8-9 महीने से पूरा विश्व कोविड-19 वैश्विक महामारी से संघर्ष कर रहा है। इस वैश्विक महामारी से निपटने के प्रयासों में संयुक्त राष्ट्र कहां है? एक प्रभावशाली प्रतिक्रिया कहां है?’’ मोदी ने कहा कि महामारी के इस मुश्किल समय में भी भारत ने 150 से अधिक देशों को जरूरी दवाइयां भेजी। 

इसे भी पढ़ें: भारत जब किसी से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है वह किसी तीसरे के खिलाफ नहीं होता: मोदी

उन्होंने कहा, ‘‘विश्व के सबसे बड़े टीका उत्पादक देश के तौर पर आज मैं वैश्विक समुदाय को एक और आश्वासन देना चाहता हूं। भारत की टीका उत्पादन और टीका वितरण क्षमता पूरी मानवता को इस संकट से बाहर निकालने के लिए काम आएगी।’’ कोविड महामारी से अब तक विश्व की 3.2 करोड़ आबादी प्रभावित हो चुकी है और दुनिया भर में इससे 9.9 लाख से अधिक लोग अपनी जांन गंवा चुके हैं। भारत में इस महामारी से अब लगभग 60 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं और 93,000 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। कोविड महामारी के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रिया पर प्रधानमंत्री मोदी ने ऐसे समय में सवाल उठाया जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस महामारी को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की भूमिका की आलोचना करते रहे हैं। पिछले सप्ताह ही उन्होंने आरोप लगाया था कि विश्व की सर्वोच्च स्वास्थ्य संस्था का नियंत्रण चीन कर रहा है। मोदी ने कहा कि भारत कोरोना वायरस के टीके के क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे दौर में है। मोदी ने कहा कि भारत जब किसी दूसरे देश से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है तो वह किसी तीसरे देश के खिलाफ नहीं होता। उन्होंने कहा, ‘‘भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है, तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की सोच नहीं होती। हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव साझा करने में कभी पीछे नहीं रहते।’’ इस बार संयुक्त राष्ट्र महासभा की यह बैठक मुख्य रूप से डिजिटल माध्यम से हो रही है। कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर विश्व के अधिकतर नेताओं ने न्यूयॉर्क पहुंचना मुनासिब नहीं समझा। 

इसे भी पढ़ें: Unlock 4 के 26वें दिन तक 7 करोड़ लोगों की जाँच, कुल संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब

उन्होंने कहा कि चाहे ‘‘नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी’’ से लेकर ‘‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’’ हो या फिर हिंद-प्रशांत क्षेत्र पर विचार, भारत ने हमेशा पूरी मानव जाति के हित के बारे में सोचा है, न कि अपने निहित स्वार्थों के बारे में। उन्होंने कहा, ‘‘भारत की साझेदारी करने का मार्गदर्शन भी यही सिद्धांत तय करता है। भारत जब किसी देश से दोस्ती का हाथ बढ़ाता है, तो वो किसी तीसरे देश के खिलाफ नहीं होता। भारत जब विकास की साझेदारी मजबूत करता है, तो उसके पीछे किसी साथी देश को मजबूर करने की सोच नहीं होती।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम अपनी विकास यात्रा से मिले अनुभव साझा करने में कभी पीछे नहीं रहते।’’ मोदी ने इस अवसर पर कहा कि भारत ने दो अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस और 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पहल की थी। इतना ही नहीं, आपदा और अंतरराष्ट्रीय सोलर अलायंस से जुड़े प्रयासों की पहल भी भारतने ही की। प्रधानमंत्री मोदी ने इस अवसर पर भारत में किए गए विकास कार्यों का भी उल्लेख किया और बताया कि कैसे 130 करोड़ के इस देश में करोड़ों लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा गया, खुले में शौच से मुक्त कराया गया, मुफ्त इलाज की सुविधा से जोड़ा गया। उन्होंने कहा, ‘‘महामारी के बाद बनी परिस्थितियों के बाद हम अब आत्मनिर्भर भारत की दृष्टि को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। आत्मनिर्भर भारत अभियान वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए भी फायदेमंद होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


भोपाल के ईदगाह हिल्स का नाम गुरु नानक टेकरी रखने की माँग

  •  दिनेश शुक्ल
  •  नवंबर 30, 2020   23:30
  • Like
भोपाल के ईदगाह हिल्स का नाम गुरु नानक टेकरी रखने की माँग
Image Source: Google

भोपाल की हुजूर विधानसभा सीट से विधायक और मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा है कि ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरु नानक टेकरी किया जाए। उन्होंने कहा कि 500 साल पहले जब गुरु नानक देव जी भारत भ्रमण पर निकले थे, तब वे भोपाल भी आए थे।

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने  प्रदेश की राजधानी  भोपाल स्थित ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरु नानक टेकरी किए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि भोपाल की यह टेकरी ऐतिहासिक रूप से गुरु नानक देव जी की स्मृतियों से जुड़ी हुई है। वही रामेश्वर शर्मा ने होशंगाबाद शहर का नाम बदलकर नर्मदापुरम रखने की वकालत की है। 

इसे भी पढ़ें: नर्मदा और गौ संरक्षण की मांगों को लेकर भैयाजी सरकार ने शुरू किया सत्याग्रह

भोपाल की हुजूर विधानसभा सीट से विधायक और मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा है कि ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरु नानक टेकरी किया जाए। उन्होंने कहा कि 500 साल पहले जब गुरु नानक देव जी भारत भ्रमण पर निकले थे, तब वे भोपाल भी आए थे। यहां गुरु नानक देव जी उसी टेकरी पर आए थे, जिसे ईदगाह हिल्स कहा जाता है। उन्होंने कहा कि पहले इस टेकरी को गुरुनानक टेकरी कहा जाता था, लेकिन बाद में यहां ईदगाह बन गई और उसका नाम ईदगाह हिल्स पड़ गया। अब इसे बदलकर गुरु नानक टेकरी किया जाना चाहिए। वही रामेश्वर शर्मा ने कहा कि होशंगाबाद का नाम भी बदलकर नर्मदापुरम किया जाना चाहिए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


नर्मदा और गौ संरक्षण की मांगों को लेकर भैयाजी सरकार ने शुरू किया सत्याग्रह

  •  दिनेश शुक्ल
  •  नवंबर 30, 2020   23:00
  • Like
नर्मदा और गौ संरक्षण की मांगों को लेकर भैयाजी सरकार ने शुरू किया सत्याग्रह
Image Source: Google

भैयाजी सरकार धूनी वाले द्वारा विगत 46 दिन से अन्न त्याग कर मां नर्मदा गौ सत्याग्रह किया जा रहा है। जबलपुर, मंडला आदि अनेक नर्मदा तटों पर उनके समर्थकों के द्वारा इस सत्याग्रह को समर्थन दिया जा रहा है।

होशंगाबाद। मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में नर्मदा और गौ संरक्षण की मांग को लेकर बीते 46 दिनों से सत्याग्रह कर रहे संत भैयाजी सरकार ने सोमवार को कार्तिक पूर्णिमा से जिले के बांद्राभान संगम तट पर सत्याग्रह शुरू कर दिया है। उनके साथ नर्मदा मिशन से जुड़े कई संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा सत्याग्रह किया जा रहा है। मां नर्मदा की पूजन अर्चन के साथ सत्याग्रह सोमवार सुबह 9 बजे से शुरू हो गया है। जिसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के सैंकड़ों लोग जुड़ते जा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: अपने साथी बलराम की मौत के बाद हिंसक हुआ हाथी राम, दो लोगों पर किया हमला

भैयाजी सरकार धूनी वाले द्वारा विगत 46 दिन से अन्न त्याग कर मां नर्मदा गौ सत्याग्रह किया जा रहा है। जबलपुर,  मंडला आदि अनेक नर्मदा तटों पर उनके समर्थकों के द्वारा इस सत्याग्रह को समर्थन दिया जा रहा है। ब्रांदाभान में सत्याग्रह से पूर्व संत भैयाजी सरकार ने कहा कि माँ नर्मदा के रिपेरियन जोन जो कि 300 मीटर में हाईकोर्ट द्वारा निर्धारित किया गया है, इस तटीय क्षेत्र को संरक्षित करने, माँ नर्मदा को जीवंत इकाई का दर्जा देने की मांग, गौ संरक्षण, गौचर विकास की मांग को लेकर सत्याग्रह जारी है। उन्होंने बताया कि नर्मदा गौ सत्याग्रह जनजागरण जन आंदोलन समिति मध्य प्रदेश के द्वारा यह सत्याग्रह किया जा रहा है। जिसमें प्रदेश के अनेक संगठन शामिल हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: जबलपुर रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ ने 50 लाख के साथ दो नाबालिग लड़कियों को पकड़ा

ये हैं प्रमुख मांगे

- हाईकोर्ट के आदेशानुसार नर्मदा के दोनों ओर 300 मीटर तक प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर तत्काल संरक्षित किया जाए।

- मां नर्मदा को जीवंत इकाई का दर्जा देकर ठोस नीति व कानून बनाए जाए।

- हरित क्षेत्र में अवैध निर्माण, अतिक्रमण, भंडारण, खनन प्रतिबंधित किया जाए। 

- अमरकंटक तीर्थ क्षेत्र में हो रहे निर्माण अतिक्रमण खनन पूर्णतः प्रतिबंधित किया जाए।

- नर्मदा के जल में मिल रहे गंदे नालों विषेले रासायनों को बंद करने व अपशिष्ट द्रव्य पदार्थों के प्रबंधन हेतु प्रभावी ठोस कार्ययोजना लागू की जाए।

- बेसहारा गौ वंश के लिए आरक्षित नगरीय निकायों की गौचर भूमि को संरक्षित किया जाए एवं अवैध अतिक्रमण निर्माण कब्जा से मुक्त कराया जाए।

- नर्मदा पथ के तटवर्ती गांव नगरों को जैवविविधता क्षेत्र घोषित कर समग्र गौ-नीति, गौ अभ्यारण बनाया जाए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अपने साथी बलराम की मौत के बाद हिंसक हुआ हाथी राम, दो लोगों पर किया हमला

  •  दिनेश शुक्ल
  •  नवंबर 30, 2020   22:41
  • Like
अपने साथी बलराम की मौत के बाद हिंसक हुआ हाथी राम, दो लोगों पर किया हमला
Image Source: Google

मंडला के बीजाडांडी वन परिक्षेत्र में रविवार रात उसने दो ग्रामीणों पर हमला किया। सीसीएफ जबलपुर एचडी मेहिले का कहना है कि खतरनाक हो चुके राम का रेस्क्यू करने के लिए कान्हा व पेंच के डायरेक्टर मंडला वन विभाग की टीम के साथ उसे ट्रेंक्युलाइज करने की कोशिश कर रहे हैं।

मंडला। अपने साथी बलराम की मौत के बाद हाथी राम हिंसक हो गया है। बीती रात मंडला जिले में उसने दो ग्रामीणों पर हमला कर दिया। हालांकि दोनों ही बच गए। इधर, हाथी बलराम के हिंसक होने पर वन अधिकारियों ने उसे ट्रेंक्युलाइज करके रेस्क्यू करने के प्रयास तेज कर दिये हैं। जबलपुर वन मंडल के बरगी के मोहास में हाथी बलराम (20) की शिकारियों द्वारा बिछाए गए करंट से मौत के बाद उसका साथी राम बेकाबू हो गया है। वह काफी गुस्से में है।

 

इसे भी पढ़ें: जबलपुर रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ ने 50 लाख के साथ दो नाबालिग लड़कियों को पकड़ा

मंडला के बीजाडांडी वन परिक्षेत्र में रविवार रात उसने दो ग्रामीणों पर हमला किया। सीसीएफ जबलपुर एचडी मेहिले का कहना है कि खतरनाक हो चुके राम का रेस्क्यू करने के लिए कान्हा व पेंच के डायरेक्टर मंडला वन विभाग की टीम के साथ उसे ट्रेंक्युलाइज करने की कोशिश कर रहे हैं। मंडला डीएफओ कमल अरोड़ा का कहना है कि राम हाथी की सोमवार को लोकेशन टिकरिया रेंज में मिली है। कान्हा नेशनल पार्क के डायरेक्टर एसके सिंह और पेंच के विक्रम सिंह परिहार की अगुवाई में वन विभाग की टीम टिकरिया रेंज में पहुंच चुकी है। हाथी राम को ट्रेंक्युलाइज कर कान्हा नेशनल पार्क ले जाया जाएगा। कर्नाटका के विशेषज्ञों से भी बातचीत चल रही है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के शहडोल में छह बच्चों की मौत, मुख्यमंत्री ने दिए जाँच के निर्देश

जबलपुर वन विभाग का अमला बीते तीन दिनों से राम हाथी की लोकेशन पता करने में लगा था, लेकिन सफलता नहीं मिली। रविवार को उसके पग मार्क जरूर नेवास रोड पर मनेरी औद्योगिक क्षेत्र में पाए गए थे। रविवार शाम सात बजे के लगभग मनेरी से वह बीजाडांडी वन परिक्षेत्र में पहुंच गया था, जो बरगी के मोहास से 45 किमी दूर है। राम हाथी सबसे पहले बीजाडांडी क्षेत्र के भैसवाही गांव निवासी भगत सिंह बैगा (45)  के खलिहान में घुस आया। उसने भगत सिंह के पीठ पर दांत से हमला कर घायल कर दिया। यहां ग्रामीणों ने शोर मचाया तो वह खेतों की ओर भाग गया।

 

इसे भी पढ़ें: माँ के साथ गाली गलौज कर रहे पिता पर पुत्र ने किया प्राणघातक हमला, इलाज के दौरान हुई मौत

जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती बीजाडांडी निवासी भगत सिंह ने बताया कि खलिहान में धान खा रहे हाथी को भैंस समझकर भगाने गए थे, तभी उसने हमला कर दिया। वहीं, नगरार गांव निवासी राजकुमार यादव (55) खेत में रखवाली करने गए थे। राम हाथी ने गुस्से में उन्हें सूंड से धक्का देकर गिरा दिया। राजकुमार यादव के मुताबिक हाथी उन्हें रौंदने के लिए आगे बढ़ा था। उसने भाग कर किसी तरह अपनी जान बचाई। हाथी ने दूर तक उसका पीछा भी किया था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।