यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच PM मोदी ने की CCS की बैठक, व्लादिमीर पुतिन से कर सकते हैं बात

यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच PM मोदी ने की CCS की बैठक, व्लादिमीर पुतिन से कर सकते हैं बात
प्रतिरूप फोटो

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर बात कर सकते हैं। हालांकि यह बातचीत किस वक्त होगी, इसकी जानकारी सामने नहीं आई है। आपको बता दें कि यूक्रेन संकट पर भारत अपनी पैनी नजर बनाए हुए है।

नयी दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध छिड़ गया है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर, गृह मंत्री अमित शाह, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल समेत कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। इस बैठक का एक वीडियो सामने आया है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय राजदूत ने कहा- जब तक हर भारतीय अपने देश नहीं पहुंच जाता तब तक दूतावास का काम जारी रहेगा 

रूसी राष्ट्रपति से PM मोदी कर सकते हैं बात

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर बात कर सकते हैं। हालांकि यह बातचीत किस वक्त होगी, इसकी जानकारी सामने नहीं आई है। आपको बता दें कि यूक्रेन संकट पर भारत अपनी पैनी नजर बनाए हुए है। ऐसे में सीसीएस की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के साथ सभी नेताओं ने आगे की रणनीति पर चर्चा की। मोदी सरकार की प्राथमिकता यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सही सलामत निकालने की है। हालांकि यूक्रेन ने एयर स्पेस बंद कर दिया है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन संकट पर पूर्व राजनयिकों ने कहा, भारत को कूटनीतिक रूप से बहुत सावधानी बरतनी होगी 

किसकी मदद करेगा भारत ?

भारत के सामने धर्मसंकट की स्थिति बनी हुई है क्योंकि रूस हमेशा से ही भारत का समर्थक रहा है। कोरोना महामारी के दौरान सबसे पहले रूस ने ही भारत की मदद की थी। इसके अलावा पिछले कुछ सालों से नाटों और अमेरिका के साथ भी भारत के संबंध बेहतर हुए हैं। ऐसे में भारत के सामने धर्मसंकट की स्थिति है कि वह किसकी मदद करे। इन्हीं तमाम मसलों पर सीसीएस की बैठक में चर्चा हो सकती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।