• प्रधानमंत्री मोदी ने टॉयकैथॉन-2021 के प्रतिभागियों के साथ कॉन्फ्रेंसिंग से की बातचीत

आरती पांडेय Jun 24, 2021 15:26

पूर्व में भी पीएम नरेंद्र मोदी वाराणसी के खिलौना कारोबारियों और कारीगरों से बातचीत कर उनका खिलौना क्षेत्र में और बेहतर करने के लिए हौसला बढ़ा चुके हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार की सुबह 11 बजे टॉयकैथॉन-2021 के प्रतिभागियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। पीएम नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी लकड़ी के खिलौनों का एक बड़ा हब है, इस वजह से वाराणसी के भी प्रतिभागियों को इस दौरान पीएम से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत करने का मौका मिला। पूर्व में भी पीएम नरेंद्र मोदी वाराणसी के खिलौना कारोबारियों और कारीगरों से बातचीत कर उनका खिलौना क्षेत्र में और बेहतर करने के लिए हौसला बढ़ा चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: राहुल के खिलाफ मानहानि की शिकायत करने वाले पूर्णेश मोदी बोले, हाई कोर्ट में पेंडिंग है हमारी याचिका

शिक्षा मंत्रालय, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, एमएसएमई मंत्रालय, डीपीआईआईटी, कपड़ा मंत्रालय, सूचना और प्रसारण मंत्रालय तथा एआईसीटीई ने संयुक्त रूप से 5 जनवरी 2021 को टॉयकैथॉन 2021 लॉन्च किया था, जिसका उद्देश्य अभिनव खिलौनों और गेम्स के लिए नए विचारों को क्राउड-सोर्स द्वारा आमंत्रित करना था। भारत भर से लगभग 1.2 लाख प्रतिभागियों ने टॉयकैथॉन 2021 के लिए 17000 से अधिक विचारों को पंजीकृत और प्रस्तुत किया, जिनमें से 1567 विचारों को 22 जून से 24 जून तक आयोजित होने वाले तीन दिनों के ऑनलाइन टॉयकैथॉन ग्रैंड फिनाले के लिए चयनित किया गया है।

इसे भी पढ़ें: लोकतंत्र को कमजोर कर रही है नेताओं की अवसरवाद की राजनीति

कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण, इस ग्रैंड फिनाले में ऐसी टीमें होंगी, जो डिजिटल रूप में अभिनव खिलौनों के विचार (टॉय आइडिया) प्रस्तुत करेंगी, जबकि नॉन-डिजिटल टॉय अवधारणा (कॉन्सेप्ट) के लिए एक अलग कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। भारत के घरेलू बाजार के साथ - साथ वैश्विक खिलौना बाजार हमारे विनिर्माण क्षेत्र के लिए एक बड़ा अवसर प्रदान करता है। टॉयकैथॉन-2021 का उद्देश्य भारत में खिलौना उद्योग को बढ़ावा देना है, ताकि इसे खिलौना बाजार के बड़े हिस्से की भागीदारी का लाभ मिल सके। इस मौके पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री भी मौजूद रहेंगे।