कश्मीर को लेकर क्या है केंद्र सरकार का 'फ्यूचर प्लान'? लोगों का मन टटोलने के लिए 70 मंत्रियों को भेज रहे पीएम मोदी

कश्मीर को लेकर क्या है केंद्र सरकार का 'फ्यूचर प्लान'? लोगों का मन टटोलने के लिए 70 मंत्रियों को भेज रहे पीएम मोदी

हाल में ही जम्मू-कश्मीर के सभी दलों के साथ बैठक करने के बाद प्रधानमंत्री ने इस बात के संकेत दे दिए थे कि वह आने वाले दिनों में जम्मू कश्मीर को लेकर कुछ और नए प्लान तैयार कर सकते हैं।

जम्मू कश्मीर से धारा 370 के हटे 2 साल से ज्यादा वक्त हो गया है। जम्मू कश्मीर लगातार प्रगति के रास्ते पर है। इन सब के बीच एक बार फिर से केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर को लेकर सक्रिय हो गई है। हाल में ही जम्मू-कश्मीर के सभी दलों के साथ बैठक करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने इस बात के संकेत दे दिए थे कि वह आने वाले दिनों में जम्मू कश्मीर को लेकर कुछ और नए प्लान तैयार कर सकते हैं। इसी को लेकर खबर यह है कि केंद्र सरकार के अलग-अलग मंत्री राज्य का दौरा कर सकते हैं। इस बात को लेकर घाटी में राजनीतिक चर्चा तेज हो गई है। लोगों में इस बात को लेकर उत्सुकता है कि आखिर केंद्र के मंत्री राज्य का दौरा क्यों कर रहे हैं?

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रीय मौद्रिकरण योजना का विरोध करने का कोई कारण नहीं: उमर अब्दुल्ला

आपको यह भी बता दें कि केंद्र के 70 मंत्रियों का यह दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब पड़ोस के ही देश में तालिबान का नियंत्रण हो गया है। तालिबान इस्लाम को बढ़ाने का काम करता है। ऐसे में यह मंत्री कश्मीरियों से इस बात पर चर्चा कर सकते हैं कि वह तालिबान को लेकर क्या सोचते हैं? खबर के मुताबिक केंद्र के 70 मंत्री 10 सितंबर से राज्य का दौरा कर सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंत्रियों को साफ तौर पर कहा है कि वह दूरदराज के इलाकों में जाएं और वहां लोगों से मुलाकात करें। मंत्रियों के इस दौरे का मकसद जनता से सीधा संवाद करना भी है।

इसे भी पढ़ें: हमें कश्मीर समेत हर जगह मुस्लिमों के लिए आवाज उठाने का अधिकार है: तालिबान

इससे वह केंद्र की नई योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में कामयाबी हासिल तो होगी ही साथ ही साथ भाजपा की पकड़ भी जनता के बीच मजबूत होगी। जनता की परेशानियों को समझना और सुलझाना भी इन मंत्रियों के जिम्मे होगा। सूत्र यह भी दावा कर रहे हैं कि हर जगह जनता दरबार का भी आयोजन किया जाएगा। माना जा रहा है कि इन मंत्रियों के फीडबैक के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी घाटी का दौरा कर सकते हैं। हालांकि इस बारे में अब तक कोई आधिकारिक सूचना नहीं है। आपको यह भी बता दें कि इससे पहले जनवरी 2020 में भी 36 केंद्रीय मंत्रियों की एक टीम ने जम्मू कश्मीर का दौरा किया था। तब भी सरकार ने वहां जनता से सीधा संवाद करने का प्रयास किया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।