• प्रधानमंत्री मोदी ने की CSIR सोसायटी के साथ बैठक, देश के वैज्ञानिकों को किया धन्यवाद

सोसायटी विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग का हिस्सा है। इसकी गतिविधियां पूरे भारत में फैले 37 प्रयोगशालाओं और 39 आउटरीच केंद्रों के माध्यम से की जाती हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) सोसायटी की बैठक की अध्यक्षता कर रहे है। इस अवसर पर केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन भी मौजूद रहे। पीएम मोदी ने इस बैठक मे वैज्ञानिकों की तारीफ करते हुए कहा कि, कम समय में वैज्ञानिकों ने वैक्सीन तैयार की। विज्ञान ने हमेशा से ही संकट के समय समाधान निकाला है। पूरे देश की ओर से वैज्ञानिकों को धन्यवाद। इस डेढ़ साल में वैज्ञानिकों ने काफी काम किया है।बीती शताब्दी का अनुभव है कि जब पहले कोई खोज दुनिया के दूसरे देशों में होती थी तो भारत को उसके लिए कई साल इंतज़ार करना पड़ता था। लेकिन आज देश के वैज्ञानिक दूसरे देशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं, हमारे वैज्ञानिकों ने 1 साल में ही मेड इन इंडिया कोरोना वैक्सीन बनाई।

इसे भी पढ़ें: कोरोना की तीसरी लहर से निपटने को लेकर केजरीवाल ने बुलाईं दो हाई लेवल मीटिंग

पीएम मोदी ने आगे कहा कि, कोरोना वैश्विक महामारी, पूरी दुनिया के सामने इस सदी की सबसे बड़ी चुनौती बनकर आई है। लेकिन इतिहास इस बात का गवाह है, जब जब मानवता पर कोई बड़ा संकट आया है, विज्ञान ने और बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार कर दिए हैं। उन्होंने कहा, आज भारत सतत विकास और क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है। आज हम सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट तक, दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं, दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली HC ने वाईएसआर कांग्रेस पार्टी की मान्यता रद्द करने के अनुरोध वाली याचिका खारिज की

 सोसायटी विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग का हिस्सा है। इसकी गतिविधियां पूरे भारत में फैले 37 प्रयोगशालाओं और 39 आउटरीच केंद्रों के माध्यम से की जाती हैं।पीएमओ की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि प्रतिष्ठित वैज्ञानिक, उद्योगपति और वैज्ञानिक मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारी सोसायटी का हिस्सा हैं, जिसकी सालाना बैठक होती है।

 

इसे भी पढ़ें: परीक्षाओं को लेकर राज्यों से मांगे गए लिखित सुझाव, शिक्षा मंत्री बोले- जल्द लिया जाएगा फैसला