Breaking: यूक्रेन संकट के बीच PM मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से की बात, बोले- बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है मतभेद

Breaking: यूक्रेन संकट के बीच PM मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से की बात, बोले- बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है मतभेद
प्रतिरूप फोटो

पीएमओ ने बताया कि रूसी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी को यूक्रेन संबंधी हालिया घटनाक्रम की जानकारी दी। पीएमओ ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस पुराने विश्वास को दोहराया कि रूस एवं नाटो के बीच मतभेदों को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है।

नयी दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध छिड़ गया है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार की रात रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से फोन पर बातचीत की। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की, हिंसा को तत्काल रोके जाने की अपील की। आपको बता दें कि दोनों नेताओं के बीच 25 मिनट तक फोन पर बातचीत हुई। 

इसे भी पढ़ें: पोलैंड के रास्ते भारतीयों को निकालेगी भारत सरकार, MEA ने कहा- PM मोदी ने सुरक्षित वापसी पर दिया जोर 

पीएमओ ने बताया कि रूसी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी को यूक्रेन संबंधी हालिया घटनाक्रम की जानकारी दी। पीएमओ ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस पुराने विश्वास को दोहराया कि रूस एवं नाटो के बीच मतभेदों को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है।

पीएमओ ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने यूक्रेन में भारतीय नागरिकों, विशेष रूप से छात्रों की सुरक्षा के बारे में भारत की चिंताओं के बारे में रूसी राष्ट्रपति पुतिन को भी अवगत कराया और बताया कि भारत उनके सुरक्षित निकास और भारत लौटने को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति पुतिन ने सहमति व्यक्त की है कि उनके अधिकारी और राजनयिक दल सामयिक हितों के मुद्दों पर नियमित संपर्क बनाए रखेंगे। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच PM मोदी ने की CCS की बैठक 

भारतीयों की वापसी के लिए हरसंभव कदम उठाएंगे

भारत ने यूक्रेन में फंसे अपने नागरिकों को आश्वस्त किया कि छात्रों सहित वहां से सभी भारतीय नागरिकों को सुरक्षित एवं सही-सलामत वापस लाने के लिए हरसंभव कदम उठाएंगे। विदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति (सीसीएस) की बैठक में कहा कि पूर्वी यूरोप के इस देश में भारतीयों की सुरक्षा और वहां से उन्हें सुरक्षित बाहर निकाल कर लाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।