राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछा सवाल, भारत सरकार किस टीके का करेगी चुनाव ?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   18:38
राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी से पूछा सवाल, भारत सरकार किस टीके का करेगी चुनाव ?

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि कोविड का टीका बनाने की ओर अग्रसर इकाइयों में भारत सरकार किसका चुनाव करेगी और क्यों करेगी?’’

नयी दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश को यह बताना चाहिए कि कोरोना वायरस के किस टीके का चयन भारत के लिए किया जाएगा। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘‘प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि कोविड का टीका बनाने की ओर अग्रसर इकाइयों में भारत सरकार किसका चुनाव करेगी और क्यों करेगी?’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘पहले टीका किसको मिलेगा और इसके वितरण की रणनीति क्या है? क्या ‘पीएम केयर्स’ कोष का इस्तेमाल मुफ्त टीकाकरण के लिए होगा? कब तक सभी भारतीय नागरिकों को टीका लग जाएगा?’’ 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी और राहुल गांधी ने तरुण गोगोई के स्वास्थ्य के बारे में ली जानकारी 

उल्लेखनीय है कि अमेरिका की दो कंपनियों फाइजर और मॉडर्ना ने ऐसे टीके विकसित करने का दावा किया है, जो कोविड-19 का संक्रमण रोकने में 90 फीसदी से ज्यादा कारगर हैं। भारत में फिलहाल पांच टीके क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में हैं। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया इस समय ऑक्सफोर्ड- एस्ट्राजेनेका के टीके का तीसरे चरण का परीक्षण कर रहा है, वहीं भारत बायोटेक और आईसीएमआर ने स्वदेश विकसित कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण शुरू कर दिया है। जायडस कैडिला द्वारा स्वेदश विकसित टीके ने देश में दूसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल पूरा कर लिया है। डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज जल्द ही रूसी टीके स्पुतनिक-5 के भारत में दूसरे और तीसरे चरण के सामूहिक परीक्षण शुरू करेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।