एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता बने पीएम नरेंद्र मोदी, बाइडन और बोरिस जॉनसन को पीछे छोड़ा

एक बार फिर दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता बने पीएम नरेंद्र मोदी, बाइडन और बोरिस जॉनसन को पीछे छोड़ा

अमेरिका स्थित ग्लोबल लीडर अप्रूवल ट्रैकर मॉर्निंग कंसल्ट के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi )भारत की 71 प्रतिशत वयस्क आबादी के साथ दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता (World's Most Popular Leader ) बने हुए हैं।

अमेरिका स्थित ग्लोबल लीडर अप्रूवल ट्रैकर मॉर्निंग कंसल्ट के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi )भारत की 71 प्रतिशत वयस्क आबादी के साथ दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता  (World's Most Popular Leader ) बने हुए हैं। शोध फर्म द्वारा किए गए सर्वेक्षण में 13 नेताओं को शामिल किया गया था जिसमें पीएम मोदी 71 प्रतिशत के साथ सूची में सबसे ऊपर हैं, इसके बाद मेक्सिको के एंड्रेस मैनुअल लोपेज़ ओब्रेडोर (66 प्रतिशत), इटली के मारियो ड्रैगी (60 प्रतिशत) और जापान के फुमियो किशिदा (48 प्रतिशत) हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी भले ही टॉप पर बने हुए हैं लेकिन इस बात को नकारने वालों की संख्या में लोग काफी ज्यादा है। पीएम मोदी को टॉप में जगह देने को न मानने वालों की सख्या 21 प्रतिशत है।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का वादा, सत्ता में आने पर राज्य कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाल करेंगे

पीएम मोदी दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और कनाडा के जस्टिन ट्रूडो को 43 प्रतिशत की स्वीकृति रेटिंग मिली और उन्हें क्रमशः छठे और सातवें स्थान पर रखा गया। ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन 26 फीसदी अप्रूवल रेटिंग के साथ सर्वे में शामिल नेताओं में सबसे निचले पायदान पर हैं। पिछले दो सालों में पीएम मोदी की अनुमोदन रेटिंग 2 मई, 2020 को 84 प्रतिशत के उच्च स्तर को छू गई। 7 मई  2021 को उनकी अनुमोदन रेटिंग 63 प्रतिशत के साथ सबसे कम थी, जब कोरोनोवायरस की दूसरी लहर अपने चरम पर थी।  

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ का आरोप, ममता बनर्जी सरकार नहीं दे रही वांछित जानकारी

जो बाइडेन की अप्रूवल रेटिंग सबसे कम हुई

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की अनुमोदन रेटिंग 43 प्रतिशत के साथ उनके राष्ट्रपति पद के दौरान सबसे कम हो गई है। जब बाइडन से सरकार बनायी थी तब कुछ समय तक उनकी लोकप्रियता काफी ज्यादा थी लेकिन अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की जल्दबाजी में वापसी के कारण और कोरोना के दौरान अमेरिका में ठीक से प्रबंधन न होने के कारण िनकी लोकप्रियता में कम आयी है। पहले महीनों में 50 प्रतिशत से ऊपर लोकप्रियता रही थी।

कैसे किया जाता है सर्वे?

मॉर्निंग कंसल्ट राजनीतिक चुनावों, निर्वाचित अधिकारियों और सर्वेक्षण करने के लिए मतदान के मुद्दों पर वास्तविक समय के मतदान डेटा पर निर्भर करता है। शोध फर्म वयस्क आबादी के साथ प्रतिदिन 20,000 से अधिक वैश्विक साक्षात्कार आयोजित करती है। वैश्विक नेता और देश प्रक्षेपवक्र डेटा किसी दिए गए देश में सभी वयस्कों के सात-दिवसीय चलती औसत पर आधारित है, जिसमें +/- 1-3 प्रतिशत के बीच त्रुटि का अंतर है। जबकि अमेरिका में औसत नमूना आकार 45,000 है, यह अन्य देशों में लगभग 3,000-5,000 के बीच है। हर देश में उम्र, लिंग, क्षेत्र और कुछ देशों में आधिकारिक सरकारी स्रोतों के आधार पर शिक्षा के आधार पर सर्वेक्षणों को महत्व दिया जाता है। भारत में, नमूना साक्षर आबादी का प्रतिनिधि है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।