तथ्यों की जांच किए बिना निराधार बयान न दें प्रधानमंत्री: नारायणसामी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   20:46
तथ्यों की जांच किए बिना निराधार बयान न दें प्रधानमंत्री: नारायणसामी

संघ शासित प्रदेश के विकास के लिए कुछ नहीं किया। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से एक दिन पहले मोदी ने यहां एक जन सभा में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की आलोचना की थी।

पुडुचेरी। पुडुचेरी के पूर्व मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने शुक्रवार को कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत सरकार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “निराधार आरोप” लगाए और उन्हें ऐसे बयान देने से पहले तथ्यों की जांच कर लेनी चाहिए। नारायणसामी ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री ने यहां आने से पहले “उनकी (नारायणसामी) सरकार को गिराने की साजिश रचने के अलावा”, संघ शासित प्रदेश के विकास के लिए कुछ नहीं किया। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान से एक दिन पहले मोदी ने यहां एक जन सभा में पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की आलोचना की थी। 

इसे भी पढ़ें: पूर्व CJI काटजू ने की नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को रोकने की कोशिश, UK कोर्ट ने कहा- आप भरोसे के काबिल नहीं

नारायणसामी ने कहा कि वह प्रधानमंत्री के उस बयान पर स्तब्ध रह गए, जिसमें उन्होंने कहा था कि पिछले पांच वर्षों में कांग्रेस की सरकार ने पुडुचेरी के विकास के लिए कुछ नहीं किया। उन्होंने कहा कि तथ्य यह हैं कि पुडुचेरी की जीडीपी 10.2 प्रतिशत थी, जबकि देश की जीडीपी सात प्रतिशत थी। उन्होंने कहा कि पुडुचेरी का वित्तीय घाटा 1.9 प्रतिशत था जबकि देश का वित्तीय घाटा 9.5 प्रतिशत था। नारायणसामी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उनके उस ज्ञापन पर कोई कार्रवाई नहीं की जिसमें संघ शासित प्रदेश में उद्योग को बढ़ावा देने के लिए केंद्र से पहल करने का अनुरोध किया गया था।

इसे भी पढ़ें: ममता का सवाल, क्या चुनाव तिथियां मोदी और शाह के सुझावों के अनुसार घोषित की गईं?

नारायणसामी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी सरकार ने, पूर्व उप राज्यपाल किरण बेदी द्वारा विकास कार्यों में बाधा उत्पन्न करने के बावजूद एंग्लो फ्रेंच टेक्सटाइल समेत तीन कपड़ा मिल को पुनर्जीवित करने लिए 36 करोड़ रुपये दिए। उन्होंने कहा कि इसलिए प्रधानमंत्री को ‘बिना तैयारी’ किए बयान नहीं देना चाहिए और पहले तथ्यों की जांच करनी चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।