• राष्ट्रपति कोविंद ने दीव में विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में भारतीय थल सेना द्वारा 1961 में पुर्तगाली शासन से क्षेत्र को मुक्त कराने और 1971 के (भारत-पाकिस्तान) युद्ध में कैप्टन महेंद्र नाथ मल्ला के द्वारा दिए गए सर्वोच्च बलिदान की सराहना की।

दीव। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को दीव में विभिन्न विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। वह केंद्र शासित प्रदेश दमन, दीव और दादरा एवं नगर हवेली के चार दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने स्वच्छता बरकरार रखने की पहल एवं सांस्कृतिक विरासत के सरंक्षण के प्रयासों को लेकर दीव प्रशासन की सराहना की। राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में भारतीय थल सेना द्वारा 1961 में पुर्तगाली शासन से क्षेत्र को मुक्त कराने और 1971 के (भारत-पाकिस्तान) युद्ध में कैप्टन महेंद्र नाथ मल्ला के द्वारा दिए गए सर्वोच्च बलिदान की सराहना की। राष्ट्रपति के इस केंद्र शसित प्रदेश के दौरे का आज दूसरा दिन था। 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति ने KGMU के प्रयासों की सराहना की, बोले- गरीब तबके के मरीजों का ध्‍यान रखना चिकित्‍सकों का सर्वोपरि कर्तव्य है 

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र का इतिहास साहस, पराक्रम और देशभक्ति की कहानियों से भरा हुआ है। कोविंद ने दीव में शिक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों की भी सराहना की और अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी), वड़ोदरा के अंतरराष्ट्रीय परिसर के प्रथम शैक्षणिक सत्र की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश के तीनों जिलों को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया गया है। राष्ट्रपति ने प्रत्येक घर से कूड़ा एकत्र करने की जिम्मेदारी लेने की पहल करने को लेकर स्थानीय प्रशासन की प्रशंसा की। 

इसे भी पढ़ें: गोवा के मुख्यमत्री ने अपनी पत्नी के साथ राष्ट्रपति से की मुलाकात, लामण दिवा और कुनबी साड़ी भेंट की 

उन्होंने कहा कि इस पहल ने पूरे देश के समक्ष एक मिसाल पेश की है। राष्ट्रपति ने सौदवाड़ी में एक स्कूल के निर्माण, दीव सिटी वॉल पर 1.3 किमी हेरिटेज वॉक-वे का विकास, फोर्ट रोड के फल एवं सब्जी बाजार के उन्नयन के साथ ही एकीकृत नगरपालिका ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली के विकास समेत अन्य परियोजनाओं की आधारशिला रखी।