पिछली सरकारों के पास गरीबों के कल्याण की सोच नहीं थी: आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2021   06:38
पिछली सरकारों के पास गरीबों के कल्याण की सोच नहीं थी: आदित्यनाथ

योगी आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘इच्छाशक्ति की कमी की वजह से गरीबों को आवास की सुविधा उपलब्‍ध नहीं कराई गई। हमारी सरकार ने 45 लाख लोगों को आवास की सुविधा उपलब्‍ध कराई।’’

गोरखपुर (उप्र)|  उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को पूर्ववर्ती सरकारों की आलोचना करते हुए कहा कि गरीब का विकास कैसे हो, पहले इसकी कोई सोच नहीं थी।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत गोरखपुर विकास प्राधिकरण द्वारा निर्मित मकानों का लोकार्पण किया। इस दौरान 1500 लाभार्थियों को उनके घरों की चाबियां भी सौंपी गई। मुख्‍यमंत्री ने मंच पर 15 लाभार्थियों को अपने हाथ से मकान की चाबी सौंपी।

इसे भी पढ़ें: जो जिन्ना का समर्थन कर रहे हैं, वह एक तरह से तालिबान का समर्थन कर रहे हैं : योगी

उन्होंने कहा, ‘‘इच्छाशक्ति की कमी की वजह से गरीबों को आवास की सुविधा उपलब्‍ध नहीं कराई गई। हमारी सरकार ने 45 लाख लोगों को आवास की सुविधा उपलब्‍ध कराई।’’

कांग्रेस, समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की पूर्ववर्ती सरकारों पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘पहले चेहरा देखकर लोगों को आवास दिए जाते थे। पहले सूर्यास्त होने के बाद लोगों की जिंदगी अंधेरे में डूब जाती थी, लेकिन आज बिजली और सोलर पैनल देकर लोगों की जिंदगी में सरकार ने उजाला किया है।’’

इंसेफेलाइटिस के कहर और बड़ी संख्या में होने वाली मौतों की याद दिलाते हुए योगी ने अपनी सरकार की सिलसिलेवार उपलब्धियां गिनाईं।

उन्होंने कहा, ‘‘जहां पर भूमाफियाओं या पेशेवर माफियाओं ने सरकारी संपत्ति का अतिक्रमण किया था, वहां उन जमीनों को कब्जे से मुक्त कराकर गरीबों के लिए मुफ्त में आवास की सुविधा का लाभ उपलब्ध कराने की जरूरत है।’’

इसे भी पढ़ें: जिन्ना विवाद पर अखिलेश की किताब फिर पढ़ने की सलाह, भाजपा ने पूछा- हिंदुस्तान की या पाकिस्तान की

उन्होंने कहा कि पांच साल पहले वनटांगिया समुदाय के लोगों के पास घर, पेयजल की सुविधा नहीं थी, स्कूलों तक पहुंच नहीं थी लेकिन अब उनके पास चापाकल, पक्के घर और बच्चों के लिए ‘स्मार्ट क्लास’ की व्यवस्था है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।