कृषि कानूनों को निरस्त करने का प्रधानमंत्री का फैसला सही प्रतीत होता है: बीकेएस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2021   07:16
कृषि कानूनों को निरस्त करने का प्रधानमंत्री का फैसला सही प्रतीत होता है: बीकेएस

बीकेएस के महासचिव बद्री नारायण चौधरी द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, इन तीनों किसान कानूनों को निरस्त करने का प्रधानमंत्री का निर्णय अनुचित विवादों और संघर्षों से बचने के लिए एक सही निर्णय प्रतीत होता है।

नयी दिल्ली|  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़़े भारतीय किसान संघ (बीकेएस) ने शुक्रवार को कहा कि तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निर्णय अनावश्यक विवादों और संघर्षों से बचने के लिहाज से सही प्रतीत होता है।

हालांकि, बीकेएस ने किसान नेताओं की आलोचना करते हुए कहा कि विरोध प्रदर्शन जारी रखने का उनका अहंकारी रवैया छोटे किसानों के लिए फायदेमंद नहीं है।

इसे भी पढ़ें: सिखों को नेताविहीन बनाने की गहरी साजिश रची जा रही: सुखबीर बादल

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री के निर्णय का स्वागत किया लेकिन कहा कि वह संसदीय प्रक्रिया के तहत इस घोषणा के प्रभावी होने की प्रतीक्षा करेगा।

बीकेएस के महासचिव बद्री नारायण चौधरी द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, इन तीनों किसान कानूनों को निरस्त करने का प्रधानमंत्री का निर्णय अनुचित विवादों और संघर्षों से बचने के लिए एक सही निर्णय प्रतीत होता है।

इसे भी पढ़ें: एसकेएम ने शीतकालीन सत्र में संसद तक रोजाना ट्रैक्टर मार्च निकालने की घोषणा की

बयान में कहा गया है, इन तथाकथित किसान नेताओं का इस तरह का अहंकारी रवैया लंबे समय में हमारे देश के छोटे किसानों के लिए फायदेमंद नहीं है, जिनकी संख्या लगभग 90 प्रतिशत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।