कौन हैं कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका ? जिन्होंने विवाद के बाद थामा भाजपा का दामन

कौन हैं कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका ? जिन्होंने विवाद के बाद थामा भाजपा का दामन

कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्य ने गुरुवार को भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। भाजपा में शामिल होने के बाद प्रियंका मौर्य ने कहा कि समाज सेवा के बेहतर मंच के लिए भाजपा में आई हूं। मैं लगातार कांग्रेस में काम कर रही थी, लड़की हूं लड़ सकती हूं के उलट मुझे लड़ने का मौका नहीं दिया गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राजनीतिक दलों में भगदड़ मची हुई है। इसी क्रम में ग्रैंड ओल्ड पार्टी की पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्य ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थामा है। प्रियंका मौर्य कांग्रेस के 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' अभियान का हिस्सा थीं लेकिन पार्टी पर गंभीर आरोप लगाते हुए उन्होंने कांग्रेस को अलविदा कह दिया। दरअसल, उन्होंने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के सचिव पर टिकट के लिए पैसे मांगने का आरोप लगाया था। 

इसे भी पढ़ें: समाजवादी पार्टी का ऐलान, मैनपुरी की करहल सीट से चुनाव लड़ेंगे अखिलेश 

उन्होंने कहा था कि मुझे लड़की_हूं_लड़_सकती_हूं पर टिकट नहीं मिला क्योंकि मैं ओबीसी हूं और प्रियंका गांधी वाड्रा के सचिव संदीप सिंह को घूस नहीं दे सकती हूं। इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेस पर धांधली का आरोप भी लगाया था।

कांग्रेस पर बरसीं प्रियंका

कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्य ने गुरुवार को भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। भाजपा में शामिल होने के बाद प्रियंका मौर्य ने कहा कि समाज सेवा के बेहतर मंच के लिए भाजपा में आई हूं। मैं लगातार कांग्रेस में काम कर रही थी, लड़की हूं लड़ सकती हूं के उलट मुझे लड़ने का मौका नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मेरे चेहरे का इस्तेमाल वोटबैंक के लिए किया।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मेरे चेहरे का इस्तेमाल वोट बैंक के लिए किया लेकिन टिकट की बात आई तो महिला के स्थान पर पुरुष को खड़ा कर दिया गया। उन्होंने कहा कि मुझको कहा गया था कि आप मेहनत कीजिए, मैंने मेहनत भी की फिर भी मुझे टिकट नहीं दी गई। 

इसे भी पढ़ें: क्या गोरखपुर से चंद्रशेखर आजाद का समर्थन करेगी समाजवादी पार्टी? अखिलेश यादव ने दिया यह जवाब 

पोस्टर में प्रियंका मौर्य को कांग्रेस ने सबसे आगे खड़ा किया था और प्रियंका ने खुद यह पोस्टर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा किया था। उन्होंने दिसंबर के दूसरे सप्ताह में ट्वीट किया था कि मैं नहीं हूं अबला, मैं दुर्गा हूं मैं शक्तिरूपा हूं, मैं लड़की हूं लड़ सकती हूं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।