राहुल गांधी ने नेहरू और गांधी जी के पत्र संवाद का किया जिक्र, कौरवों से की ईडी, सीबीआई की तुलना

राहुल गांधी ने नेहरू और गांधी जी के पत्र संवाद का किया जिक्र, कौरवों से की ईडी, सीबीआई की तुलना
प्रतिरूप फोटो

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा मेरे परदादा गांधी जी के साथ काम करते थे और मैंने उनकी एक चिट्ठी पढ़ी थी। नेहरू जी चिट्ठी में लिखते हैं कि एक मामले को लेकर मेरी गांधीजी के साथ बातचीत हुई है और मेरा मत कह रहा है कि इस मामले में गांधी जी गलत बोल रहे हैं।

अहमदाबाद। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को गुजरात के द्वारका में चिंतन शिविर को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि गुजरात में मुझे हमेशा कुछ-न-कुछ सीखने को मिलता है क्योंकि आप लोग बहुत ही अनोखे ढंग से काम करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी गुजरात से पैदा हुई है। उस वक्त हर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी उठी थी। विचारधारा और पार्टी की दिशा एक गुजराती ने दी थी। उसमें नेहरू जी, सरदार पटेल, सुभाषचंद्र बोस इत्यादि लोग थे। लेकिन पार्टी को दिशा महात्मा गांधी ने दिखाई थी। 

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को तत्काल निकालने की सरकार से की मांग, शेयर किया वीडियो 

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी और बाकी के नेताओं में बहुत ज्यादा फर्क था। मेरे परदादा गांधी जी के साथ काम करते थे और मैंने उनकी एक चिट्ठी पढ़ी थी। नेहरू जी चिट्ठी में लिखते हैं कि एक मामले को लेकर मेरी गांधीजी के साथ बातचीत हुई है और मेरा मत कह रहा है कि इस मामले में गांधी जी गलत बोल रहे हैं लेकिन मैं अंदर से जानता हूं कि मेरा दिमाग जो कह रहा है कि वो गलत हैं और वो मैं सही हूं लेकिन मैं जानता हूं कि वो सही हैं और मैं गलत हूं।

इसी बीच राहुल गांधी ने भगवान कृष्ण का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि जब लड़ाई हुई तो भगवान कृष्ण ने बड़ी होशियारी के साथ सवाल पूछा कि तुम्हें सेना चाहिए या फिर कृष्ण चाहिए। यह कोई मामूली सवाल नहीं बल्कि बहुत ही गहरा सवाल है। इस सवाल के माध्यम से कृष्ण भगवान यह पूछ रहे थे कि तुम्हें सच्चाई की लड़ाई लड़नी है या फिर छूठ की। अगर सच्चाई की लड़ाई लड़नी है तो सिर्फ 4-5 लोगों की जरूरत है और अगर छूठ की लड़ाई लड़नी है तो सबकुछ उठाकर ले जाओ। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार की सामरिक गलतियों की भारी कीमत देश को चुकानी होगी: राहुल गांधी 

उन्होंने अपने वक्तव्य में कौरवों के 100 भाईयों की तुलना सीबीआई, ईडी इत्यादि से की। उन्होंने कहा कि गुजरात हमें यह सिखाता है कि एक तरफ सत्ता, सीबीआई, ईडी, मीडिया, कौरव हो तो कुछ फर्क नहीं पड़ता है क्योंकि वह माया है और दूसरी तरफ सच्चाई। उन्होंने गांधी जी की तस्वीर की तरफ ध्यान केंद्रित करते हुए कहा कि सच्चाई ऐसी होती है।

राहुल गांधी ने कहा कि करता कौन है और बोलता कौन है। इस पर कांग्रेस में डिस्कनेक्ट है। एक तरफ़ कांग्रेस में वो लोग हैं, जो 24 घंटे लगे रहते हैं, लाठी खाते हैं। दूसरी तरफ़ वो है जो एसी में बैठते हैं, मौज करते हैं और लंबे भाषण देते हैं। उन्होंने कहा कि जरात के लोगों को हमें कांग्रेस की लिस्ट दिखानी है कि एक तरफ़ काम के लोग हैं, ये लोग गुजरात को रास्त दिखा देंगे। दूसरी तरफ़ वे लोग हैं, जो परेशानी पैदा करते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।