राजनाथ ने अरुणाचल प्रदेश में अग्रिम क्षेत्रों का किया दौरा, जवानों ने गाया- 'संदेशे आते हैं'

rajnath with jawans
ANI
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने दिनजान सैन्य स्टेशन पर भारतीय सेना के डीएओ डिवीजन के जवानों के साथ बातचीत की। इस दौरान जवानों ने 'संदेशे आते हैं' गाना गाया।
ईटानगर। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को असम के तिनसुकिया जिले के दिनजान में देश की सबसे पूर्वी सैन्य संरचना का दौरा किया और इसकी परिचालन तैयारियों की समीक्षा की। यह जानकारी एक रक्षा विज्ञप्ति में दी गई। सिंह अरुणाचल प्रदेश के दो दिवसीय दौरे पर हैं। उनके साथ सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे, पूर्वी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल आर पी कालिता के अलावा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने दिनजान सैन्य स्टेशन पर भारतीय सेना के डीएओ डिवीजन के जवानों के साथ बातचीत की। इस दौरान जवानों ने 'संदेशे आते हैं' गाना गाया।

इसे भी पढ़ें: भारत का 2025 तक रक्षा विनिर्माण क्षेत्र में 1.75 लाख करोड़ रुपये के कारोबार का लक्ष्य: राजनाथ सिंह

तीसरी कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल आर सी तिवारी और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा रक्षा मंत्री को वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के विकास, क्षमता विकास और परिचालन तैयारियों के बारे में जानकारी दी गई। सिंह का दौरा ऐसे समय में हो रहा है जब चीन सीमा पर अपने बुनियादी ढांचे को उन्नत कर रहा है। चीन अरुणाचल प्रदेश में भारत की संप्रभुता को स्वीकार करने से इनकार करता है और इसे दक्षिण तिब्बत कहता है। इस दौरे के दौरान रक्षा मंत्री सिंह को सीमा पर तैनात सैनिकों की परिचालन दक्षता बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक सैन्य उपकरणों और प्रौद्योगिकी के उपयोग के बारे में भी जानकारी दी गई

इसे भी पढ़ें: 'आप मूर्ख नहीं बना सकते', जयशंकर के बयान पर US की सफाई- भारत-पाक, दोनों ही देश हमारे सहयोगी

इस विज्ञप्ति में कहा गया है कि रक्षा मंत्री ने चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में सेना के ‘स्पीयर कोर’ के सभी रैंकों द्वारा किए जा रहे उत्कृष्ट कार्यों और उत्कृष्ट सेवाओं की सराहना की। सिंह बृहस्पतिवार को अग्रिम चौकियों का दौरा करेंगे और परिचालन तैयारियों के बारे में प्रत्यक्ष जानकारी लेंगे और वहां के सैनिकों से बातचीत करेंगे। वह अथु पोपू के दूसरे धार्मिक अभियान के सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे। यह अभियान स्थानीय इडु मिश्मी जनजाति की एक वार्षिक यात्रा है, जिसके लिए सेना 2021 से सुविधा प्रदान कर रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़