राकेश टिकैत बोले- कमजोर न समझे सरकार, संसद में लिख देंगे, ये है किसानों का अस्पताल

राकेश टिकैत बोले- कमजोर न समझे सरकार, संसद में लिख देंगे, ये है किसानों का अस्पताल

किसान नेता ने कहा “कोरोना का इलाज़ अस्पताल में होगा और किसानों की बीमारी का इलाज़ संसद में। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि संसद तो किसानों का अस्पताल हैं। संसद में लिख देंगे कि यह किसानों का अस्पताल है और यहीं इलाज़ होता है। वहां हमारा इलाज होगा।

केंद्र सरकार के लाए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन पिछले सात महीनों से आंदोलन में जुटे हैं। प्रदर्शनों के सात महीने पूरे होने पर किसानों ने 26 जून को विभिन्न राज्यों में राजभवनों का घेराव करके राज्यपालों को ज्ञापन सौंपना का प्रयास किया। दिल्ली में संवेदनशील हालात के मद्देनजर उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर की सुरक्षा चाक-चौबंद कर दी गई। भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार उन्हें कमजोर न समझे। किसान नेता ने कहा “कोरोना का इलाज़ अस्पताल में होगा और किसानों की बीमारी का इलाज़ संसद में। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि संसद तो किसानों का अस्पताल हैं। संसद में लिख देंगे कि यह किसानों का अस्पताल है और यहीं इलाज़ होता है। वहां हमारा इलाज होगा। हमें पता चला हैं कि किसानों का इलाज एम्स से अच्छा तो संसद में होता है। हम अपना इलाज वहां कराएंगे। जब भी दिल्ली जाएंगे हम संसद में जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: राकेश टिकैत की गिरफ्तारी वाली खबरों को दिल्ली पुलिस ने बताया 'फेक', किसान नेता बोले- मैं गाजीपुर बॉर्डर पर हूं

गौरतलब है कि  केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली के टिकरी, सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर पिछले साल से ही किसानों का जमावड़ा है। वहीं इससे पहले आज खबर आई थी कि राकेश टिकैत को गिरफ्तार कर लिया गया था। जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने ट्वीट करते हुए बताया कि फर्जी खबर है! 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।